Hindi

Hypnosis

Recordings

by Dr. Steve G. Jones

60min

Play Free Sample

Includes:

  • 30 minutes of hypnotic suggestion
  • Relaxing music / binaural tones
  • NLP techniques

$7995

Each

Select the recordings that you want below.
If you have a VIP code, please use it at checkout


POWER YOUR MIND
hypnotherapy recordings
what's on the recordings?
HINDI PLATINUM HYPNOSIS RECORDINGS

$79.95 each
Achieve Unlimited Wealth Power Your Mind to Achieve Unlimited Wealth
Close

Unlimited wealth – असीमित दौलत
तुम्हे एहसास होता है की तुम पैसों का लोहकांत हो। पैसा आसानी से तुम्हारे हाथ में आ जाता है। तुम भरपूर हो। सब तुम्हारे पास आ रहा है। तुम दूसरों के साथ मज़बूत और ताकतवर रिश्ते जोड़ते हो और यह तुम्हारे भरपूर दौलत का कारण है। तुम दूसरों से रिश्ते जोड़ने में आनंद लेते हो। तुम्हारे दुनिया के ओर जो भी योगदान हैं वह अद्भुत हैं। तुम जो हो वह तुम्हारी ज़िन्दगी में जूनून बन जाता है। तुम हर रोज़ बिल्कुल व्यस्त हो। तुम्हारे पास असीमित ऊर्जा है। तुम नए और मौलिक रास्ते ढूँढ़ते हो दूसरों की योगदान करने के लिए। तुम काफ़ी हो। तुम ताकतवर हो। तुम अपनी सुल्झानों और एतराजों को छोड़ दो। तुम अपनी दौलत की मंजिलों पर ध्यान दो और उन्हें पूरा करो, अपनी निवल संपत्ति हमेशा बढाते हुए। तुम भरपूर जीवन जी रहे हो। तुम कामयाब हो। अपने आप को कामयाब देखो उन सारे चीज़ों के साथ जिन पर तुम्हारा हक़ है जैसे की एक सुंदर घर, बड़ा बैंक खाता, और जो भी तुम चाहो। सोचो की तुम एक पहाड़ के नीचे हो। उस पहाड़ की चोटी को देखना मुश्किल है मगर तुम उसे चढ़ते हो। यह एक ऊंचा पहाड़ है लेकिन हर कदम तुम्हे चोटी की ओर लाता है। देखो एक जलता हुआ चिराग पेडों के ऊपर पहाड़ के चोटी के ओर। तुम्हे लगता है की तुम्हे पता लगाना चाहिए की वह क्या है। जहाँ तुम हो वहाँ पेड़ ज्यादा हैं। उनके आस-पास चलना मुश्किल है मगर तुम्हे लगता है की तुम चलने में बहतर होते जा रहे हो। यह पेड़ वह मुसीबत है जो तुम्हे टालना होगा पहाड़ के चोटी तक पहुँचने के लिए। तुम्हारे पीछे देखो की वहाँ पेड़ नहीं है, सिर्फ़ घांस है हवा में नाचते हुए। तुम्हारे पीछे सारे पेड़ गुम गए हैं क्योंकि वह सब तुम्हारी मुश्किलें हैं जो तुमने टाल दिए। तुम पहाड़ को चढ़ते जाते हो। और अब तुम एक चट्टान पे आते हो। वह जलता हुआ चिराग अब और भी उजला है। लगता है वह चट्टान के आगे है और तुम उसे चढ़ना शुरू करते हो। पहले यह मुश्किल है मगर जैसे तुम चढ़ते जाते हो और भी आसान हो जाता है। तुम्हारे हाथ और पैर बिना किसी कोशिश के पहाड़ के चारों ओर चलते हैं। एहसास करो की अभी तुम चढ़ रहे हो। और इन भावनाओं को तुम अपनी उन कोशिशों के साथ तौल सकते हो जो तुम आगे जाके अपनी भरपूर दौलत के लिए करोगे। देखो चढ़ना कितना आसान बन जाता है और तुम चढ़ते जाते हो, यह अब तुम्हारे लिए आसान है क्योंकि तुम अपने मकसत पर ध्यान दे रहे हो। तुम उस चिराग के मकसत पर ध्यान देते हो और रोज़ तुम भरपूर दौलत के मकसत पर ध्यान देते हो। चढ़ते रहो। अपनी उँगलियों को पत्थर पर देखो। एहसास करो तुम्हारे पैरों को उन पत्थरों पर चढ़ते हुए, हर स्थिति के साथ सौदा करते हुए जैसे वह आता है। तुम चढ़ते रहो। जो भी हो तुम चढ़ते रहो। तुम्हारे हाथ और पैर आसानी से पत्थरों पर चलते हैं। अब तुम अपने पीछे देखो, अपने नीचे देखो और तुम्हे एहसास होगा की कितना मुश्किल लगता था, तुमने कितना पूरा किया है और तुम चढ़ते रहो। तुम ताकतवर महसूस करते हो जैसे तुम ऊपर पहुँचते हो। जैसे तुम आगे देखते हो पेडों से भरा एक रास्ता है जो पहाड़ के चोटी की ओर जाता है। बीच में कुछ पत्थर हैं, पर तुम चलते हो या पत्थरों के आगे कूदते हो। तुम चुनौतियों से लड़ते हो। और तुम अपने रास्ते पर बढ़ते जाते हो। अपने सफर में आनंद लेते हो पर ध्यान देते हुए, तुम बहुत उत्तेजित हो और तुम देखना चाहते हो उस पहाड़ के ऊपर क्या है। क्या होगा वहाँ? तुम सोचते हो। तो तुम जल्दी चलते हो और जैसे तुम जल्दी चलने लगते हो तुम्हारी रोज़ी ज़िन्दगी तेज़ी से धनि बहुलता की ओर जाता है, तेज़ी से भरपूर दौलत की ओर। हर कदम आसान होता जाता है तुम्हारे लिए। अब तुम लाल लकड़ीवाले पेडों तक पहुँचते हो। यह बहुत चौडे हैं और आस-पास हैं। पेडों के बीच में से उजाला दिखाई देता है। तुम अपने आप को दो पेडों के बीच निचोड़ते हो। तुम यहाँ के हो और फिर तुम एक अद्भुद चीज़ देखते हो। पहाड़ के चोटी पर खजाने का ढेर है। हर जगह सोना, पैसा और शानदार चीज़ें हैं। तुम दौलत और धन से घेरे हुए हो। यह सारी ख़ास चीज़ें तुम्हारी कामयाबी और मक्सतों के प्रतिनिधि हैं जिनके तुम सपने देख रहे थे। अब मैं चाहती हूँ की तुम आराम हो अपने भरपूर दौलत के साथ, जैसे तुम यहाँ इस सब के बीच खड़े हो। पैसा, सोना, यह सारी शानदार चीज़ें। तुम्हे यह सोचने की आज़ादी दो की तुम्हारे पास कई चीज़ें होना ठीक है, दौलती होना ठीक है। यह सोचना की पैसा होना अच्छा है और इस पैसे के साथ तुम कई ख़ास चीज़ कर सकते हो और तुम दूसरों की मदद कर सकते हो। तुम्हे एहसास होता है की तुम कामयाब हो। तुम बहुत कठिनाई से यहाँ तक आए हो और तुम कामयाब हो। तुम जो कुछ चाह सकते हो वह इस पहाड़ के ऊपर है। अपने आप को इस सोने के भण्डार के बीच कूदने की इजाज़त दो और तुम्हे अच्छा लगेगा क्योंकि तुम यहाँ इतना सारा काम करने के बाद आ पहुंचे हो। तुम फिर पहाड़ के नीचे देखते हो और रास्ता साफ़ है। अब चलना आसान होगा क्योंकि तुम ने पहले से ही ऊपर तक पहुँचने का मकसत पूरा किया है। तुम कामयाब हो। तुम अपनी पैसों और कामयाबी के साथ कई चीज़ें कर सकते हो।

Achieve Love Magnetism Power Your Mind to Achieve Love Magnetism
Close

Love magnet – प्यार का लोहकांत:
और जैसे तुम पूरी शान्ति से बहते हो, अपने आप को और विश्वासी बनते हुए देखो और महसूस करो, आकर्षक और मनोहर बनने और एहसास करने की चुनो। तुम देखोगे की तुम हर किसीसे आसानी और बिन हिचकिचाए बात कर सकते हो। क्योंकि तुम अब सुरक्षित हो, तुम में आत्मविशवास है और तुम आकर्षक हो। अब सोचो उस जीवन साथी के बारे में जो तुम्हारे लिए बिल्कुल सही है और मैं चाहती हूँ तुम उन गुणों के बारे में सोचो जो तुम्हे अपने जीवन साथी में चाहिए। थोड़ा सोचो उनके बाल कैसे होंगे। अच्छा अभी सोचो तुम अपने जीवन साथी के आंखों में झाँक रहे हो, उनके आँख कैसे होंगे? अच्छा अभी सोचो तुम अपने जीवन साथी के बदन को देख रहे हो, उनका बदन कैसा होगा? अच्छा अभी सोचो तुम्हारे जीवन साथी के हंसी के बारे में। सोचो उनकी हंसी कैसी होगी? अच्छा अभी सोचो तुम्हारे जीवन साथी के आवाज़ के बारे में, उनकी आवाज़ सुनो। उनकी आवाज़ कैसी होगी? अच्छा अभी मैं चाहती हूँ तुम सोचो अपने जीवन साथी के दर्शन के बारे में, वह ज़िन्दगी के बारे में क्या सोचते हैं? सोचो तुम उस पे विचार कर रहे हो। अच्छा अब मैं चाहती हूँ तुम सोचो अपने जीवन साथी के पसंद या नापसंद के बारे में, उनके शौक क्या होंगे? उनको किन चीज़ों में दिलचस्पी होगी? उनको क्या करना अच्छा लगेगा? उनको कहाँ जाना अच्छा लगेगा? अब तुम्हारे जीवन साथी के पसंद या नापसंद के बारे में सोचो। अच्छा अब मैं चाहती हूँ की तुम अपने जीवन साथी को देखो, भीतर और बाहर से, पूरी तरह से। सोचो की तुम उनको देख रहे हो। अच्छा अब एहसास करो की कितना अच्छा लगता है तुम्हारे जीवन साथी के साथ होना। उनके साथ कुछ पल गुजारना। उनके साथ होना। और तुमको एहसास होगा की तुम उनको तुम्हारी ज़िन्दगी में स्वीकार करोगे। तुम प्यार के हकदार हो। तुम खुशी के हकदार हो। तुम्हे प्यार देने और मिलने का हक़ है। और तुम समझते हो की तुम ज़िन्दगी में जीवन साथी को स्वीकार करने के लिए तैयार हो। अब तुम्हे एहसास होगा की तुम्हारे जीवन साथी को तुम्हारी ओर आकर्षित करने के लिए तुम में कुछ ख़ास गुण होने चाहिए जो तुम्हारे जीवन साथी पहचाने और उन्हें लुभाएँ। तुम्हे एहसास है यह ज़रूरी है की तुम अपने अन्दर से अपने अच्छे से अच्छे गुण दिखाओ। जो गुण मैं अभी बोलनेवाली हूँ वह तुम में पहले से ही हैं। तुम्हे अब यह एहसास है की उन गुणों को दिखाना कितना ज़रूरी है और उन्हें पूरी तरह से विकसित करना ताकि तुम अपने साथी को पूरी तरह से आकर्षित कर सको। तो जैसे मैं हर गुण का नाम लूँ मैं चाहती हूँ की तुम थोड़ा सोचो की तुम अपने आप में उस गुण को कैसे विकसित कर सकते हो ताकि तुम अपने आप को और भी आकर्षित बना सको। यह तुम्हारी मदद करेगा तुम्हारे जीवन साथी को लुभाने में और तुम्हारे बारे में अच्छा लगने में ताकि तुम खुशी से जी सको। अच्छा अब एक गुण जो तुम अपने आप में दिखा सकते हो और ज्यादा विकसित कर सकते हो वह है दूसरों का ध्यान रखना। सोचो तुम किस तरीके से दूसरों का ध्यान रख सकते हो। अच्छा और एक गुण जो तुम विकसित करना चाहोगे वह है हास्य का भाव। बेशख तुम्हारी अपनी हास्य की भाव होगी। कुछ चीज़ें जो तुमको मजाकी लगते हैं। मजाकिया होना, आसानी से हंसना और अच्छे पल बिताना, यह सारे आकर्षक गुण हैं। तो अब सोचो की तुम अपने हास्य के भाव को पूरी तरह से कैसे विकसित कर सकते हो। अच्छा और एक गुण जो तुम विकसित करना चाहोगे वह है तुम्हारा ज्ञान। लोग उनके ओर आकर्षित होते हैं जो ज्ञानी होते हैं। बेशख तुम्हारे कई शौक हैं। आनेवाले पल में मैं चाहती हूँ की तुम सोचो तुम्हारे सारे पसंद या नापसंद के बारे में और सोचो की तुम उस हर पसंद या नापसंद को कैसे विकसित कर सकते हो। उनके बारे में पढने से या एहसास करने से या उनके बारे में किसी और से बात करने से। अच्छा एक और गुण जो दूसरों को तुम्हारे ओर आकर्षित करता है वह है अच्छी तरह से बात करना। इसका मतलब है साफ़ बात करना, कई चीज़ों के बारे में बात करना और उस आवाज़ में बात करना जो दूसरों को सुनने में आसानी हो। तो अगले कुछ पल के लिए सोचो की तुम किस तरह से अच्छे तरीके से बात कर सकते हो।

Achieve Unlimited Confidence Power Your Mind to Achieve Unlimited Confidence
Close

Unlimited confidence – असीमित आत्मविशवास:
मैं चाहती हूँ की तुम अपने आप को समुद्रतट के पास चलते हुए देखो और सोचो की तुम एक जगह आए हो जहाँ रेत में तुम्हारे बारे में बुरे शब्द लिखे गए हैं। यह वह शब्द हैं जो तुम्हे पहले दिए गए हैं और तुम्हे अपने सही मंजिल तक पहुँचने में रोके हैं। सच यह है की तुम विशवासी हो। तुम योग्य हो और तुम अच्छे इंसान हो। अभी उन शब्दों को रेत में देखो और अपने पैर के साथ उन्हें टोक दो। अपने पैरों के साथ उन शब्दों को वहाँ से मिटा दो। और अब देखो जैसे पानी समुद्र किनारे आती है तुम्हारे पैरों तले और तुम्हारे आस-पास की रेत को धो देती है। अब उन बुरे शब्दों का कोई मायना नहीं है। वह शब्द अब नहीं हैं और न पहले कभी थे क्योंकि सिर्फ़ तुम एक हो जिसने उन शब्दों को देखा है। अब तुम पलटकर समुद्र किनारे थोडी दूर चलते हो। तुम्हे और भी आत्मविश्वास होता है। तुम और भी ऊंचा खड़ते हो। तुम रेत में एक बड़े पत्थर की ओर आते हो। इस पत्थर पर एक डाली है और तुम उस डाली को उठाते हो और वह सारे शब्द लिखते हो जो तुम्हारी वर्णन करते हैं। तुम लिखते हो प्रतिभावित, तुम लिखते हो विशवासी, उन शब्दों को उस पत्थर पर हमेशा के लिए लिखते हुए। तुम लिखते हो निपुण। तुम लिखते हो अच्छे इंसान। तुम लिखते हो सकारात्मक। तुम लिखते हो सुंदर। तुम लिखते हो सक्षम। और अब जब मैं चुप-चाप हूँ, तुम कई शब्द लिखते हो उस डाली के साथ, शब्द जो तुम्हारी वर्णन करते हैं, जो वर्णन करते हैं तुम कितने अच्छे हो, ख़ास हो। देखो उन सारे शब्दों को जो तुमने इस पत्थर पर लिखे हैं। अब सोचो की तुम कितने अच्छे इंसान हो। तुम अपने आप में और अपने कार्य में विशवास करते हो। तुम जैसे दिखते हो, जो पहनते हो, जो करते हो, उन सब में विशवास करते हो। तुम अपने काम करनेवालों, दोस्तों, परिवारवालों और प्यार करनेवालों के साथ विशवासी हो। तुम्हे हर चीज़ आसानी से आती है। तुम आसानी से लोगों से बात कर सकते हो। तुम्हारी मुंह से बातें आसानी से बहती हैं। तुम बातचीत में बहुत अच्छे हो। लोग तुम्हारी बातों का इज्ज़त करते हैं। तुम बलवान हो, तुम इज्ज़तदार हो और सभी तुम्हे सक्षम और विशवासी देखते हैं। अब सोचो की तुम अपने आप को आईने में देख रहे हो। तुम देखोगे की तुम साकारात्मक ऊर्जा से भरे हो। सब देखते हैं की तुम कितने चमकदार हो। सभी को तुम्हारी यह साकारात्मक ऊर्जा दिखती है। देखो तुम कितने अच्छे दिखते हो। तुम बहुत सुंदर हो। तुम बिल्कुल वैसे दिखते हो जैसे तुम्हे दिखना चाहिए। तुम बिल्कुल वैसे दिखते हो जैसे तुम चाहते हो। सभी तुम्हारी इज्ज़त करते हैं और तुम अपने आप को इज्ज़त करते हो। अपने आप को खड़े हुए देखो, गर्व से भरे हुए, बलवान। तुम्हे अपने योग्यता और कुशलता का पूरा एहसास है। तुम समझते हो की तुम जिस चीज़ पर अपना दिमाग लगाते हो वह तुम पूरा कर सकते हो। आगे जाके तुम जो भी चाहो आज़ादी से कर सकते हो। अब से तुम उन बुरे शब्दों के कारण अपने आप को रोकते नहीं हो। वह शब्द हमेशा के लिए धो गए हैं। तुम्हे सिर्फ़ अच्छे शब्द दिखाई देते हैं तुम्हारा वर्णन करते हुए और तुम चमकदार ऊर्जा से भरे हुए हो। तुम्हारे मकसत व्यावहारिक हैं, तुम्हारे विचार रचनात्मक हैं और तुम्हारा दिमाग साकारात्मक विचारों से भरा हुआ है। तुम भविष्य को अपनी मुट्ठी में कसके आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ने के लिए तेयार हो। अब अपने आप को आज से छः महीने आगे देखो। तुम सचमुच आगे बढे हो और यह दिखता है। तुम अब अपने आप को पहले जैसे नहीं पहचान सकते। सिर्फ़ साकारात्मक शब्द जो तुम्हारी वर्णन करते हैं तुम्हारी दिमाग में हैं। पिछले छः महीनों में तुमने बहुत कुछ पूरा किया है। बड़े बड़े काम जो तुम अपनी आत्मविश्वास के कारण कर सकते हो। तुम्हारे आत्मविश्वास के कारण बाकी लोग तुम्हे एक नई इज्ज़त के साथ देखते हैं। तुम्हे दूसरों से बात करना अच्छा लगता है और वह तुम्हारी बातों में दिलचस्पी दिखाते हैं। तुम्हारा काम-काज अच्छा चल रहा है। चाहे तुम पढ़ रहे हो या काम कर रहे हो या अपनी व्यापार चला रहे हो, तुम जो भी कर रहे हो, वह तुम्हारे लिए अच्छा चल रहा है। तुम आसानी से अपने विचार और राय कह सकते हो क्योंकि वह तुम्हारे लिए महत्वपूर्ण हैं। इसलिए बाकी लोग भी उन्हें महत्वपूर्ण समझते हैं। तुम्हारे परिवारवालों और दोस्तों के साथ तुम्हारा रिश्ता अच्छा चल रहा है।

Achieve Unlimited Motivation Power Your Mind to Achieve Unlimited Motivation
Close

Unlimited motivation – असीमित प्रेरणा:
सोचो की कोई भी चीज़ तुम्हे अपनी मकसत तक पहुँचने से नहीं रोक सकता। तुम वह कामयाब आदमी बन सकते हो जो तुम चाहते हो। सोचो एक निपुण दिन है। उस दिन जब तुम जागो और तुम्हे पता है की यह वैसा दिन होगा जब सब कुछ ठीक होगा। सब अपनी जगह होगी। तुम्हारे भावनाएं अच्छे हैं। तुम शान्ति एहसास करते हो। तुम संतुष्टि एहसास करते हो। तुम ने जो रेखाएं बनाई हैं उस में तुम आराम और सुरक्षित हो। अब तुम चुनते हो उन रेखाओं को बढ़ाना। सोचो की तुम उन रेखाओं को हटा रहे हो जो तुमने बनाए हैं और तुम अपना क्षितिज बढ़ा रहे हो, अपने मकसत बढ़ा रहे हो, और भी आगे बढ़ते हुए, अपने नए मक्सतों के साथ खुश हो। अपने नए क्षितिज के साथ तुम खुश हो। तुम्हे सुरक्षित और खुश लगता है की तुम में वह शक्ति और ताकत है बदलाव लाने ले लिए। अपनी सीमाओं को बदलाने के लिए और वह कामयाब आदमी बनने के लिए जो तुम चाहते हो। तुम्हारी भावनाएं अच्छी हैं। तुम शांत हो। तुम संतुष्ट हो। अब यह सोचो – इस ख़ास दिन को अपने भविष्य में देखो – एक दिन या दो, एक हफ्ता, एक महीना। सोचो की तुमने कई सुल्झनों का हल किया है, कई संघर्ष और वह अब तुम्हारे पीछे हैं। सोचो की तुम्हारे चेहरे पर मुस्कान है। तुम शांत हो, संतुष्ट हो, और तुम ने कई सुल्झनों का हल किया है, उनका जवाब मिला है। अब तुम्हे उन पिछले सुल्झनों से आज़ादी मिल गई है। तुम में आत्मविशवास है। तुम केंद्रित हो, बलवान हो। अब किसी मकसत या मंजिल के बारे में सोचो जो तुम पूरा करना चाहते हो। अपने आप को छोटी मक्सतों से अलग करते हुए बड़े मकसत पर ध्यान देते हुए देखो। अपने आप को ऊर्जा के साथ अपना काम करते हुए देखो। उसे ख़तम करते हुए देखो। तुम्हे नए अवसर दिखाई देंगे। तुम्हे नई चुनौतियाँ दिखाई देंगे जो पुरानेवालों से और भी रोमांचक होंगे। तुम अपने आप को नई ऊर्जा के साथ देखते हो। तुम उत्साहित हो, ध्यान देते हो, और पुराने विचारों से नए वाले उठते हैं। नई ऊर्जा और साकारात्मक भावनाएं उठते हैं। तुम कायाब हो। तुम ने अपना मकसत पहुँचा है। सोचो की तुम उस सारी चीज़ों के हकदार हो जो ज़िन्दगी तुम्हे देती है। तुम्हारी मकसत तक पहुंचना तुम्हारे लिए बहुत लाभदायक है और जैसे तुम ज़िन्दगी में और भी मक्सतों तक पहुंचोगे, उन्हें तुम साकारात्मक दृष्टि से देखोगे, अपने लिए, अपने परिवारवालों के लिए, अपने दोस्तों के लिए और अपने साथ काम करनेवालों के लिए। सोचो की तुम अपनी मकसत तक पहुँचने में ऊर्जा लगा रहे हो और बन रहे हो वह कामयाब आदमी जो तुम्हारा हक़ है। सोचो उन सारी साकारात्मक मक्सतों के बारे में जो तुमने पहले से पहुंचे हैं। यह तुम्हारे लिए और आस-पास रहनेवालों के लिए अच्छा है। अब सोचो की तुम कामयाब बन रहे हो। तुम खुश हो। तुम दूसरों के बारे में सोचते हो। तुम दूसरों की मदद करते हो और तुम्हारी कामयाबी सभी के लिए अच्छी है। तुम अपनी कामयाबी के साथ खुश हो। तुम अपनी कामयाबी अच्छे और हकदार काम के लिए इस्तमाल करते हो। कामयाबी तुम्हारा हक़ है। उसे देखो, एहसास करो, तुम कामयाब हो। तुम्हारा दिमाग साफ़ है। तुम अपने आप को एक बुद्धिमान, रोमांचक और सुंदर व्यक्ति के रूप में देखते हो जो तुम हो। तुम्हारे कई विकल्प हैं, मर्जियां हैं और तुम जो भी करोगे, जो भी रास्ता चुनोगे, यह जान लो की वह तुम्हारे लिए अच्छा ही होगा। तुम्हारी कामयाबी एक अच्छी घटना है तुम्हारे लिए और जो तुम्हारे ज़िन्दगी का हिस्सा हैं। तुम्हारा हर विकल्प और जो भी रास्ता तुम चुनते हो अभी के लिए बिल्कुल सही है। अब अपने आप को भविष्य में देखो कई अच्छे रास्तों और विकल्पों के साथ और इस चित्र को वर्तमान में लाओ। अपने आप को सुल्झनों का हल करते हुए देखो। अपने आप को आत्मविशवास के साथ कामयाब देखो कई साकारात्मक रास्तों के साथ चुनने के लिए और तुम्हे पता है तुम अपनी कामयाबी जारी रख सकते हो। तुम उन चीज़ों को चुन सकते हो जो तुम्हारी ज़िन्दगी को और भी बहतर बना सके।

Achieve Your Ideal Weight Power Your Mind to Achieve Your Ideal Weight
Close

Reach/maintain weight – सही वज़न पहुंचना / बनाये रखना:
क्यूंकि तुम अब शांत और आराम हो, तुम किसी भी मकसत को कामयाबी से पहुँच सकते हो। किसी भी वज़न तक पहुंचकर उस वज़न पर रह सकते हो। तुम यह सोच रहे हो कि तुम उस वज़न तक पहुँच गए हो जो तुम चाहते हो और तुमने उस वज़न को बनाए रखा है। तुम यह सोच सकते हो, महसूस कर सकते हो कि तुम दुबले-पतले हो, तुम्हारे सीपियाँ कसे हुए हैं, तुम्हारा बदन बिल्कुल तंदुरुस्त है। तुम्हारा अवचेतन दिमाग अब इस चित्र पर काम करेगा और उसे महसूस करेगा और उसे यथार्थ बनाएगा और तुम अपने आप को अपनी सही वज़न तक पहुँचने की अनुमती दोगे। तुम उस वज़न तक पहुँच सकते हो जो तुम कहते हो और उस वज़न को खोकर बनाए रखोगे। तुम बुरे खाने की आदतों को अच्छे खाने की आदतों में बदलते हो। तुम इसे आसानी से होने देते हो। अब सोचो की तुम्हारे आगे एक मेज़ है और इस मेज़ पर तुम वह सारी खाने की चीज़ें भरते हो जो तुम्हारे लिए हानिकारक हैं, तुम्हारे भावनाओं के लिए बुरे हैं। इन चीज़ों के बारे में सोचो। उन्हें तुम मेज़ पर रखते हो। यह सारी चीज़ें तुम्हारे लिए हानिकारक हैं। तुम्हारे बदन के लिए ज़हर जैसे हैं। इन चीज़ों को खाने से तुम्हारी तबियत ख़राब हो सकती है। अगर तुम उन चीज़ों को खाओगे, तुम बहुत कम खाओगे। इन चीज़ों को कम खाने से तुम बिल्कुल संतुष्ट हो। तुम और खा नहीं सकते तो तुम इन चीज़ों को मेज़ से हटा देते हो। तुम्हारा बदन इन चीज़ों को स्वीकार नहीं करता। तुम्हारा दिमाग और तुम्हारी भावनाएं इन चीज़ों को स्वीकार नहीं करते। तुम मेज़ को साफ़ करते हो और अब उस खाली मेज़ पर रखते हो वह सारी खाने की चीज़ें जो तुम्हे पसंद हैं। अच्छे तंदुरुस्त चीज़ें। वह खाना जिस में कम कालोरिएस हो। यह वह फल हैं जो तुम्हे पसंद हैं, अच्छे, साफ़ और कड़क हैं। वह सब्जियां जो तुम्हे पसंद हैं। तुम इन अच्छे तंदुरुस्त खाने की चीज़ों को देखते हो और सोचते हो की तुम उन्हें खा रहे हो। और तुम धीरे खाते हो। धीरे खाओ। चाहे तुम किसी से बात कर रहे हो या नहीं, तुम्हे पता है की तुम कितना खा रहे हो और तुम कम खाते हो और रुक जाते हो। और वह अच्छा लगता है। तुम सही खाते हो और तुम बिल्कुल खुश हो। तुम एक भोजन के समय से दूसरे तक खुश हो और तुम्हे इन दो भोजन के समय के बीच कुछ खाने की कोई इच्छा नहीं है। तुम्हे ख़ुद पर गर्व है। तुम अपनी ज़िन्दगी के सारे अच्छे चीज़ों के बारे में सोचते हो, तुम्हारे मकसत और कम्याबों को जो तुमने पहले से पूरे किए हैं। और तुम जानते हो की तुम कामयाब बनते रहोगे, तुम्हारी हर मकसत तक पहुँचते हुए और तुम्हारे लिए सबसे तंदुरुस्त और सकारात्मक ज़िन्दगी बनाते हुए। और अब सोचो तुम ख़ुद को देख रहे हो। तुम अच्छे दिखते हो और अच्छा महसूस करते हो। तुम आराम और शांत हो और खाना तुम्हारे लिए कम महत्त्व रखता है और तुम धीरे खाने में खुश हो। नाश्ता तुम्हारे लिए एहेम नहीं है चाहो तुम घर पर हो या काम पर, तुम जहाँ भी हो या जो भी कर रहे हो। तुम होटल में थोड़ा सा खाना खा सकते हो और धीरे से खा सकते हो। तुम थोड़ा सा खाना छोड़ भी दो तो ठीक है। चाहे तुम दबाव में हो, तुम और भी शांत और आराम में हो और खाना तुम्हारे लिए महत्वपूर्ण नहीं है। तुम्हे ख़ुद पर गर्व है। इसके इनाम ज़बरदस्त हैं। और अब तुम जब भी खाने के बारे में सोचोगे, तुम वह अच्छे तंदुरुस्त खाने की चीज़ चुनोगे और तुम सही खाओगे, और जब तुमने सही खाया है, तुम ख़ुद को रोक सकोगे। तुम कुछ बाकी छोड़ो भी तो वह ठीक है। तुम बस खाना बंद कर दोगे और आराम करोगे और अपनी आत्मविश्वास और शान्ति को अपनी बदन में बहने दोगे। अब तुम पहले से और भी प्रेरित हो अपने लिए सबसे तंदुरुस्त और अच्छी ज़िन्दगी बनाने के लिए। पुराने खाने की आदतों को नए आदतों में बदलना, तुम्हारी सही वज़न तक पहुंचना और उसी को बनाए रखना। तुम्हे अच्छा लगता है और तुम्हे एक नए और तंदुरुस्त महत्वपूर्ण ऊर्जा का एहसास होता है जो तुम्हारे बदन और दिमाग के अन्दर बहता है। तुम्हारे विचार अच्छे हैं, भरोसे से भरे हैं। तुम अपनी सारी अच्छे गुंणों के बारे में सोचते हो, तुम्हारी बुद्धि और रचनात्मकता और तुम ख़ुद को खूबसूरत समझते हो जो तुम हो। और तुम इन अच्छे एहसासों को दिन-रात बढ़ने देते हो और अब तुम आराम कर सकते हो।

अपनी दिमाग को ताकत दो अपनी ज़िन्दगी में वास्तविक बदलाव लाने के लिए !
प्राकृतिक आत्म सम्मोहन – स्टीव जी जोन्स द्वारा।

मैं अपनी अनुभव से बात करता हूँ जब मैं कहता हूँ कि तुम्हारी ज़िन्दगी में वास्तविक बदलाव लाने के लिए एक बहतर और आसान तरीका है। चाहे तुम दौलत पाना चाहो या प्रेरणा या आत्मविश्वास या सही वज़न पाना चाहो या जीवन साथी खोजना चाहो अपनी ज़िन्दगी बिताने के लिए, सम्मोहन तुम्हारी मदद करेगा !

सम्मोहन चिकत्सा के साथ मैंने हजारों लोगों की मदद की है उनकी ज़िन्दगी को बहतर बनाने में। विचारों और व्यवहारों को बदलाने के लिए यह एक तुंरत उपकरण है। सम्मोहन चिकित्सा मदद कर सकता है तुंरत सही वज़न, दौलत, प्रेरणा, आत्मविश्वास और प्यार पाने में, बिना हलचल के और आसानी से। यह सचमुच एक अनोखा, श्रेष्ठ उपकरण है जो तुम्हारी देखने और अनुभव करने के तरीके को बदल देगा !

परिणाम दिखाई देंगे जब तुम पहली बार ही तुम्हारी सीडी को सुनोगे क्योंकि सम्मोहन तुंरत काम करता है तुम्हारे कन्धों से भोज उठाते हुए, तुम्हे शांत करके और तुम्हारे विचारों को यह सोचने दे कि तुम सफल हो सकते हो तुम्हारी सही वज़न पहुँचने में, असीम दौलत पाने में, असीम आत्मविश्वास, असीम प्रेरणा पाने में और तुम्हारे जीवन साथी खोजने में।

यह परिणाम पाया जा सकता है क्योंकि सम्मोहन चिकित्सा एक साबित निर्विवाद सहायता और सहारा का प्रबंध है।

मेरे हजारों सफल ग्राहक कभी तुम्हारे जैसे थे। वह कुछ अलग नहीं थे।

सबसे बुनियादी मोड़ पे सम्मोहन और सम्मोहन चिकित्सा अपने आप से लड़ने के बारे में नहीं है। अपनी चाहतों और ज़रूरतों को एक साथ कर लो ताकि तुम अपने आप को लड़ नहीं रहे हो। कभी कभी तुम बदलाव जल्दी चाहते हो, बिना ज्यादा काम किए। सम्मोहन तुम्हे यह ताकत देगा!

तुम्हे यह आत्म-सम्मोहन की सीडी या एमपी3 को हर रात सोने के पहले इक्कीस रातों के लिए सुनना होगा। इसके बाद तुम इसे जब चाहो अनुरक्षण योजना जैसे इस्तमाल कर सकते हो।

"अगर तुम अपनी ज़िन्दगी में साकारात्मक बदलाव लाना चाहते हो, स्टीव जी जोन्स वह अन्तर बना सकता है। मेरे साथ उसने ऐसा किया।"
टॉम मंकिएविक्ज़
"सुपरमैन द मूवी" का लेखक

"वाह! कोई शाख नहीं की स्टीव सम्मोहन में नेता है। कितने भाग्यवान हैं वह लोग जिनको इस प्रतिभाशाली का लाभ मिल रहा है!"
जेराल्दिने सौन्देर्स
"लव बोट" टीवी सीरीज़ की रचनाकार

"मैं पहले संदेह करती थी, मगर अब मैं मानती हूँ। मैं एक पैंतालीस साल की औरत हूँ जो बदलने के सपने भी नहीं देख सकती थी। मेरी मानो, यह सब ध्यान बदलाने का मामला है। मैं एक नई औरत हूँ। और मत टहरो, यह काम करता है!!!"
अन्नी गाब्रिएल
फोर्ट लौडरडेल, फ्लोरिडा

यहाँ है और भी जानकारी "सही वज़न पाना और बनाए रखना" आत्म-सम्मोहन रिकॉर्डिंग पर :

जब तुम मेरी सबसे अच्छी बिकनेवाली सही वज़न तक पहुंचना या बनाए रखना सीडी या एमपी3 का इस्तमाल करोगे, मैं, तुम्हारा व्यक्तिगत सम्मोहन चिकित्सक, तुम्हारे साथ काम करूँगा उन विचारों को प्रबलित करने के लिए, वह विचार जो तुम्हे अपने सही वज़न तक पहुंचाएंगे।

मेरे सम्मोहन जिकित्सक होने के तेईस साल में मैंने कई लोगों की मदद की, हर भूमिका से और हर स्थिति में।

इसलिए मैंने बनाया है अन्तिम सही वज़न सम्मोहन सीडी और एमपी3 ताकि जब तुम उसे सुनो, वह तुंरत काम करने लगेगा। उत्सुक विचार टाल दिए जायेंगे, अच्छे सोच तुम्हारे अवचेतन दिमाग में प्रबलित हो जाते हैं और तुम्हारे सही वज़न तक पहुँचने की काबिलियत का एक नया मायना होगा।

क्या तुम कभी यह नहीं सोचते की क्या कोई आसान तरीका है? उस समय तक तुम कुछ खाने की सोचते हो जो तुम्हारे सहद के लिए अच्छा नहीं है और देर हो जाता है। तुम्हारा सही वज़न पहुँचने का सबसे आसान तरीका है हमेशा अपने अवचेतन दिमाग में सहारा देनेवाले साकारात्मक सोच होना बुरे हानिकारक सोच विचार शुरू होने से पहले।

ममता की ज़रूरत हम सब में है, और सही वज़न से दूर होना एक लक्षण हो सकता है। तुम जितना भी वज़न कम करना चाहो, सम्मोहन और सम्मोहन चिकित्सा आसान और मददगार हिस्सा बन सकते हैं। तुम्हे कुछ खोना नहीं है सिवाय अतिरिक्त वज़न के। किसको पूरा दिन अपनी तृष्णा से लड़नी है और क्या मैं या क्या मैं नहीं सोच चाहिए? जब तक तुम क्या मैं या क्या मैं नहीं सोच रहे हो, तुम लड़ने के लिए तेयार हो। शायद तुम उसे लड़ सकते हो पर क्यों इस पर तुम्हारी ऊर्जा बरबाद करोगे जब उसका इस्तमाल कर सकते हो ज़िन्दगी को ज्यादा आगे बढ़ाने में? क्या यह अच्छा नहीं होगा की तुम सही वज़न तक पहुंचे बिना हमेशा लड़ते हुए?

सबसे बुनियादी मोड़ पर, सम्मोहन और सम्मोहन चिकित्सा अपने आप से लड़ने के बारे में नहीं हैं। अपने चाहतों और ज़रूरतों को एक साथ कर लो ताकि तुम अपने आप को लड़ नहीं रहे हो। कभी कभी तुम चाहते हो की अपना वज़न जल्दी कम कर दो, बिन ज्यादा काम किए। तुम चाहते हो की तुम सोते हुए वज़न कम करो, अपनी चयापचय की गति बढ़ाओ, सीपियाँ ज्यादा करो और अच्छे दिखो, हम सब चाहते हैं।

हर समय सर्तक होना ऊबाऊ और उदास हो सकता है। ज़िन्दगी इस बारे में नहीं होना चाहिए। सम्मोहन तुम्हारी ज़िन्दगी को बहतर बनाने के लिए है। ज़्यादातर हम चाहते हैं की हम तंदुरुस्त हों, अन्दर और बाहर से। पर कभी कभी हमें फर्क नहीं पड़ता। हम चाहते हैं की चादर में लपेटकर आगे पीछे हिलते हुए अपनी आप को ममता दें। दोनों कैसे हो सकते हैं?

सम्मोहन चिकित्सा हमारे भेजे की अवचेतन हिस्सों तक पहुँचता है जहाँ विरुद्ध चाहतें होती हैं जो हमारे सचेत मक्सतों को तोड़ सकते हैं। चिकित्सक सिदिस और एमपी3 को सुनने से हम उस सहारे को प्रबलित कर सकते हैं जिसके लिए हम तड़पते हैं अपने आप को रोज़ अच्छा बनाने के लिए और अपने आप को पूरा करने के लिए, जिसे हर किसी की ज़रूरत है।

यहाँ है एक नमूना जिसका इस्तमाल किया गया है "सही वज़न पहुँचो या बनाए रखो" में:

क्यूंकि तुम अब शांत और आराम हो, तुम किसी भी मकसत को कामयाबी से पहुँच सकते हो। किसी भी वज़न तक पहुंचकर उस वज़न पर रह सकते हो। तुम यह सोच रहे हो कि तुम उस वज़न तक पहुँच गए हो जो तुम चाहते हो और तुमने उस वज़न को बनाए रखा है। तुम यह सोच सकते हो, महसूस कर सकते हो कि तुम दुबले-पतले हो, तुम्हारे सीपियाँ कसे हुए हैं, तुम्हारा बदन बिल्कुल तंदुरुस्त है। तुम्हारा अवचेतन दिमाग अब इस चित्र पर काम करेगा और उसे महसूस करेगा और उसे यथार्थ बनाएगा और तुम अपने आप को अपनी सही वज़न तक पहुँचने की अनुमती दोगे। तुम उस वज़न तक पहुँच सकते हो जो तुम कहते हो और उस वज़न को खोकर बनाए रखोगे। तुम बुरे खाने की आदतों को अच्छे खाने की आदतों में बदलते हो। तुम इसे आसानी से होने देते हो। अब सोचो की तुम्हारे आगे एक मेज़ है और इस मेज़ पर तुम वह सारी खाने की चीज़ें भरते हो जो तुम्हारे लिए हानिकारक हैं, तुम्हारे भावनाओं के लिए बुरे हैं। इन चीज़ों के बारे में सोचो। उन्हें तुम मेज़ पर रखते हो। यह सारी चीज़ें तुम्हारे लिए हानिकारक हैं। तुम्हारे बदन के लिए ज़हर जैसे हैं। इन चीज़ों को खाने से तुम्हारी तबियत ख़राब हो सकती है। अगर तुम उन चीज़ों को खाओगे, तुम बहुत कम खाओगे। इन चीज़ों को कम खाने से तुम बिल्कुल संतुष्ट हो। तुम और खा नहीं सकते तो तुम इन चीज़ों को मेज़ से हटा देते हो। तुम्हारा बदन इन चीज़ों को स्वीकार नहीं करता। तुम्हारा दिमाग और तुम्हारी भावनाएं इन चीज़ों को स्वीकार नहीं करते। तुम मेज़ को साफ़ करते हो और अब उस खाली मेज़ पर रखते हो वह सारी खाने की चीज़ें जो तुम्हे पसंद हैं। अच्छे तंदुरुस्त चीज़ें। वह खाना जिस में कम कालोरिएस हो। यह वह फल हैं जो तुम्हे पसंद हैं, अच्छे, साफ़ और कड़क हैं। वह सब्जियां जो तुम्हे पसंद हैं। तुम इन अच्छे तंदुरुस्त खाने की चीज़ों को देखते हो और सोचते हो की तुम उन्हें खा रहे हो। और तुम धीरे खाते हो। धीरे खाओ। चाहे तुम किसी से बात कर रहे हो या नहीं, तुम्हे पता है की तुम कितना खा रहे हो और तुम कम खाते हो और रुक जाते हो। और वह अच्छा लगता है। तुम सही खाते हो और तुम बिल्कुल खुश हो। तुम एक भोजन के समय से दूसरे तक खुश हो और तुम्हे इन दो भोजन के समय के बीच कुछ खाने की कोई इच्छा नहीं है। तुम्हे ख़ुद पर गर्व है। तुम अपनी ज़िन्दगी के सारे अच्छे चीज़ों के बारे में सोचते हो, तुम्हारे मकसत और कम्याबों को जो तुमने पहले से पूरे किए हैं। और तुम जानते हो की तुम कामयाब बनते रहोगे, तुम्हारी हर मकसत तक पहुँचते हुए और तुम्हारे लिए सबसे तंदुरुस्त और सकारात्मक ज़िन्दगी बनाते हुए। और अब सोचो तुम ख़ुद को देख रहे हो। तुम अच्छे दिखते हो और अच्छा महसूस करते हो। तुम आराम और शांत हो और खाना तुम्हारे लिए कम महत्त्व रखता है और तुम धीरे खाने में खुश हो। नाश्ता तुम्हारे लिए एहेम नहीं है चाहो तुम घर पर हो या काम पर, तुम जहाँ भी हो या जो भी कर रहे हो। तुम होटल में थोड़ा सा खाना खा सकते हो और धीरे से खा सकते हो। तुम थोड़ा सा खाना छोड़ भी दो तो ठीक है। चाहे तुम दबाव में हो, तुम और भी शांत और आराम में हो और खाना तुम्हारे लिए महत्वपूर्ण नहीं है। तुम्हे ख़ुद पर गर्व है। इसके इनाम ज़बरदस्त हैं। और अब तुम जब भी खाने के बारे में सोचोगे, तुम वह अच्छे तंदुरुस्त खाने की चीज़ चुनोगे और तुम सही खाओगे, और जब तुमने सही खाया है, तुम ख़ुद को रोक सकोगे। तुम कुछ बाकी छोड़ो भी तो वह ठीक है। तुम बस खाना बंद कर दोगे और आराम करोगे और अपनी आत्मविश्वास और शान्ति को अपनी बदन में बहने दोगे। अब तुम पहले से और भी प्रेरित हो अपने लिए सबसे तंदुरुस्त और अच्छी ज़िन्दगी बनाने के लिए। पुराने खाने की आदतों को नए आदतों में बदलना, तुम्हारी सही वज़न तक पहुंचना और उसी को बनाए रखना। तुम्हे अच्छा लगता है और तुम्हे एक नए और तंदुरुस्त महत्वपूर्ण ऊर्जा का एहसास होता है जो तुम्हारे बदन और दिमाग के अन्दर बहता है। तुम्हारे विचार अच्छे हैं, भरोसे से भरे हैं। तुम अपनी सारी अच्छे गुंणों के बारे में सोचते हो, तुम्हारी बुद्धि और रचनात्मकता और तुम ख़ुद को खूबसूरत समझते हो जो तुम हो। और तुम इन अच्छे एहसासों को दिन-रात बढ़ने देते हो और अब तुम आराम कर सकते हो।

यहाँ है और भी जानकारी "असीमित दौलत कमाना" आत्म-सम्मोहन रिकॉर्डिंग पर :

पैसों का खेल दूसरे दिमागी खेल जैसा होता है। मुझे भी बहुत तकलीफ होती थी यह मानने में की मैं इतने पैसों का हकदार हूँ। मैंने सोचा मेरी काबिलियत सिर्फ़ पचास डॉलर का था जब मैं पहले अपने ग्राहक को देखता अपने सम्मोहन चिकित्सालय में।

सौभाग्य से एक समझदार सम्मोहन चिकित्सक ने मुझे बिठाकर मुझे सीधा किया। उसने मुझे समझाया की मेरा इससे बहुत ज्यादा काबिलियत था। मैंने जल्द ही अपना मोल सौ डॉलर तक बढ़ा दिया और सोचा की कोई मुझे इतना पैसा नहीं देनेवाला। मैं ग़लत था – लोग खुशी से मुझे उतना पैसा देते। सच में अब मेरे पास पहले से भी ज्यादा ग्राहक थे।

उसने फिर मुझ से कहा अपनी मोल घंटे के लिए एक सौ पचास डॉलर बना दो और मैंने वह किया और फिर भी पहले से ज्यादा ग्राहक आने लगे और तब से वैसा ही चल रहा है। जितना ज्यादा मैं अपना मोल बढाता हूँ, उतना पैसा मैं बनाता हूँ। ऐसा क्यों है? क्या लोग कुछ चीज़ों के लिए ज्यादा पैसा देना चाहते हैं?

जवाब हाँ है। लोग चाहते हैं। क्योंकि तुम जितना पैसा मांगते हो, उतना उनके दिमाग में तुम्हारे कार्य का मोल बढ़ता है। अंत में मैंने अपना मोल एक जैसा बना दिया क्योंकि मैं नहीं चाहता था कुछ लोग छूट जाएँ क्योंकि वह मेरी सेवाओं के लिए इतने पैसे नहीं दे सकते थे।

मेरे लिए यह एहेम है की मेरी सेवाएं कई लोगों तक पहुंचे जिससे मेरे सेवाओं का मोल बनाए रहे क्योंकि मैं अमूल्य सेवा कर रहा हूँ। मैंने अपनी मोल बढ़ाने की कहानी बताई यह दिखाने के लिए की पैसा एक दिमागी खेल है और जब तुम विकल्प करोगे की तुम कितने पैसों के काबिल हो, तब वह सच बन जायेगा। तुम अपने अवचेतन दिमाग और दुनिया को यह संदेश भेजते हो की तुम इतने पैसों के काबिल हो।

तुम्हारे लिए वह पैसा जो तुम अपने आप को काबिल समझते हो कम होगा। कई लोग यह करते हैं, मगर एक बार तुम उस सोच को बदला दो किसी ऊंचे अंख से, तुम्हारा दुनिया भी उसी तरह बदल जायेगा।

मैं समझता हूँ अगर तुम्हारा कोई व्यापार नहीं है लेकिन अगर तुम घंटे के हिसाब से भी काम कर रहे हो और तुम सोचते हो की तुम अब दस डॉलर नहीं बल्कि बीस डॉलर के काबिल हो तो तुम्हारा अवचेतन दिमाग कोई रास्ता खोज लेगा इसे सच बनाने के लिए। शायद यह होगा की तुम उस काम को छोड़ दोगे और ज्यादा पैसेवाला काम करोगे, या तुम उन कुशलताओं का प्रास करोगे जिससे तुम्हारी काबिलियत और बढे। शायद तुम ज्यादा पढ़ाई करोगे या अपनी काम में और भी प्रशिक्षण करोगे। पर तुम्हारा अवचेतन दिमाग इसे सच्चाई में बदलने का रास्ता खोजता है जब तुम इसे मानने लगो।

अगर तुम बेचने के काम में हो, अपने आप में मानना और ज्यादा पैसा बनाना तम्हारे लिए जाना-पहचाना होगा। अगर तुम्हारे पास ऐसा काम है जहाँ तुम्हारी दौलत भरपूर है और बिल्कुल तुम्हारे उत्पादकता से सबंधित है, तब तुम्हे अनुभव से पता होगा जितना तुम अपने आप पे भरोसा करते हो उतनी ही तुम्हारी दौलत बढती जायेगी।

तब तो तुम्हारी अमीरी सच में भरपूर है। तो मैं तुम्हे प्रोत्साहित करता हूँ अभी तुम्हारी ज़िन्दगी बदलने के लिए सम्मोहन चिकित्सा के मदद के साथ। तुम्हारे दिमाग में जो भी अवरोध हैं उन्हें तोड़ दो क्योंकि सिर्फ़ दिमाग एक जगह है जहाँ यह रहता है। जो जंजीरें तुम ने बनाई हैं वह सच नहीं हैं। वह बस आत्मसात हैं और तुम्हारे सारे पैसों और काबिलियत से जुड़ी हुई अनुभवों की संकलन हैं।

यहाँ है एक नमूना जिसका इस्तमाल किया गया है "असीमित दौलत" में:

तुम्हे एहसास होता है की तुम पैसों का लोहकांत हो। पैसा आसानी से तुम्हारे हाथ में आ जाता है। तुम भरपूर हो। सब तुम्हारे पास आ रहा है। तुम दूसरों के साथ मज़बूत और ताकतवर रिश्ते जोड़ते हो और यह तुम्हारे भरपूर दौलत का कारण है। तुम दूसरों से रिश्ते जोड़ने में आनंद लेते हो। तुम्हारे दुनिया के ओर जो भी योगदान हैं वह अद्भुत हैं। तुम जो हो वह तुम्हारी ज़िन्दगी में जूनून बन जाता है। तुम हर रोज़ बिल्कुल व्यस्त हो। तुम्हारे पास असीमित ऊर्जा है। तुम नए और मौलिक रास्ते ढूँढ़ते हो दूसरों की योगदान करने के लिए। तुम काफ़ी हो। तुम ताकतवर हो। तुम अपनी सुल्झानों और एतराजों को छोड़ दो। तुम अपनी दौलत की मंजिलों पर ध्यान दो और उन्हें पूरा करो, अपनी निवल संपत्ति हमेशा बढाते हुए। तुम भरपूर जीवन जी रहे हो। तुम कामयाब हो। अपने आप को कामयाब देखो उन सारे चीज़ों के साथ जिन पर तुम्हारा हक़ है जैसे की एक सुंदर घर, बड़ा बैंक खाता, और जो भी तुम चाहो। सोचो की तुम एक पहाड़ के नीचे हो। उस पहाड़ की चोटी को देखना मुश्किल है मगर तुम उसे चढ़ते हो। यह एक ऊंचा पहाड़ है लेकिन हर कदम तुम्हे चोटी की ओर लाता है। देखो एक जलता हुआ चिराग पेडों के ऊपर पहाड़ के चोटी के ओर। तुम्हे लगता है की तुम्हे पता लगाना चाहिए की वह क्या है। जहाँ तुम हो वहाँ पेड़ ज्यादा हैं। उनके आस-पास चलना मुश्किल है मगर तुम्हे लगता है की तुम चलने में बहतर होते जा रहे हो। यह पेड़ वह मुसीबत है जो तुम्हे टालना होगा पहाड़ के चोटी तक पहुँचने के लिए। तुम्हारे पीछे देखो की वहाँ पेड़ नहीं है, सिर्फ़ घांस है हवा में नाचते हुए। तुम्हारे पीछे सारे पेड़ गुम गए हैं क्योंकि वह सब तुम्हारी मुश्किलें हैं जो तुमने टाल दिए। तुम पहाड़ को चढ़ते जाते हो। और अब तुम एक चट्टान पे आते हो। वह जलता हुआ चिराग अब और भी उजला है। लगता है वह चट्टान के आगे है और तुम उसे चढ़ना शुरू करते हो। पहले यह मुश्किल है मगर जैसे तुम चढ़ते जाते हो और भी आसान हो जाता है। तुम्हारे हाथ और पैर बिना किसी कोशिश के पहाड़ के चारों ओर चलते हैं। एहसास करो की अभी तुम चढ़ रहे हो। और इन भावनाओं को तुम अपनी उन कोशिशों के साथ तौल सकते हो जो तुम आगे जाके अपनी भरपूर दौलत के लिए करोगे। देखो चढ़ना कितना आसान बन जाता है और तुम चढ़ते जाते हो, यह अब तुम्हारे लिए आसान है क्योंकि तुम अपने मकसत पर ध्यान दे रहे हो। तुम उस चिराग के मकसत पर ध्यान देते हो और रोज़ तुम भरपूर दौलत के मकसत पर ध्यान देते हो। चढ़ते रहो। अपनी उँगलियों को पत्थर पर देखो। एहसास करो तुम्हारे पैरों को उन पत्थरों पर चढ़ते हुए, हर स्थिति के साथ सौदा करते हुए जैसे वह आता है। तुम चढ़ते रहो। जो भी हो तुम चढ़ते रहो। तुम्हारे हाथ और पैर आसानी से पत्थरों पर चलते हैं। अब तुम अपने पीछे देखो, अपने नीचे देखो और तुम्हे एहसास होगा की कितना मुश्किल लगता था, तुमने कितना पूरा किया है और तुम चढ़ते रहो। तुम ताकतवर महसूस करते हो जैसे तुम ऊपर पहुँचते हो। जैसे तुम आगे देखते हो पेडों से भरा एक रास्ता है जो पहाड़ के चोटी की ओर जाता है। बीच में कुछ पत्थर हैं, पर तुम चलते हो या पत्थरों के आगे कूदते हो। तुम चुनौतियों से लड़ते हो। और तुम अपने रास्ते पर बढ़ते जाते हो। अपने सफर में आनंद लेते हो पर ध्यान देते हुए, तुम बहुत उत्तेजित हो और तुम देखना चाहते हो उस पहाड़ के ऊपर क्या है। क्या होगा वहाँ? तुम सोचते हो। तो तुम जल्दी चलते हो और जैसे तुम जल्दी चलने लगते हो तुम्हारी रोज़ी ज़िन्दगी तेज़ी से धनि बहुलता की ओर जाता है, तेज़ी से भरपूर दौलत की ओर। हर कदम आसान होता जाता है तुम्हारे लिए। अब तुम लाल लकड़ीवाले पेडों तक पहुँचते हो। यह बहुत चौडे हैं और आस-पास हैं। पेडों के बीच में से उजाला दिखाई देता है। तुम अपने आप को दो पेडों के बीच निचोड़ते हो। तुम यहाँ के हो और फिर तुम एक अद्भुद चीज़ देखते हो। पहाड़ के चोटी पर खजाने का ढेर है। हर जगह सोना, पैसा और शानदार चीज़ें हैं। तुम दौलत और धन से घेरे हुए हो। यह सारी ख़ास चीज़ें तुम्हारी कामयाबी और मक्सतों के प्रतिनिधि हैं जिनके तुम सपने देख रहे थे। अब मैं चाहती हूँ की तुम आराम हो अपने भरपूर दौलत के साथ, जैसे तुम यहाँ इस सब के बीच खड़े हो। पैसा, सोना, यह सारी शानदार चीज़ें। तुम्हे यह सोचने की आज़ादी दो की तुम्हारे पास कई चीज़ें होना ठीक है, दौलती होना ठीक है। यह सोचना की पैसा होना अच्छा है और इस पैसे के साथ तुम कई ख़ास चीज़ कर सकते हो और तुम दूसरों की मदद कर सकते हो। तुम्हे एहसास होता है की तुम कामयाब हो। तुम बहुत कठिनाई से यहाँ तक आए हो और तुम कामयाब हो। तुम जो कुछ चाह सकते हो वह इस पहाड़ के ऊपर है। अपने आप को इस सोने के भण्डार के बीच कूदने की इजाज़त दो और तुम्हे अच्छा लगेगा क्योंकि तुम यहाँ इतना सारा काम करने के बाद आ पहुंचे हो। तुम फिर पहाड़ के नीचे देखते हो और रास्ता साफ़ है। अब चलना आसान होगा क्योंकि तुम ने पहले से ही ऊपर तक पहुँचने का मकसत पूरा किया है। तुम कामयाब हो। तुम अपनी पैसों और कामयाबी के साथ कई चीज़ें कर सकते हो।

यहाँ है और भी जानकारी "असीमित आत्मविशवास" आत्म-सम्मोहन सीडी और एमपी3 पर :

आत्मविशवास दिमाग से शुरू होता है। जो भी तुम हो, जो भी तुम बनना चाहते हो और जो भी तुम बनोगे – यह सब तुम्हारे आत्मविशवास से असीमित हुआ है।

अगर तुम इसके बारे में सोचो, तुम्हारे पास ऐसी कोई चीज़ नहीं है जो तुमने अपने आप में पहले विकल्प करके हुआ हो। जब हम आत्मविशवास पर काम करते हैं, हम अपने उस हिस्से पर काम करते हैं जो हमारी ज़िन्दगी को बनाता है।

एक बार तुम अपनी अंदरी दुनिया को सम्मोहन के ज़रिये बदलाओ, स्वयं, बिना कोशिश किए, तुम अपनी बाहरी दुनिया को भी बदलाओगे क्योंकि तुम्हारा अवचेतन दिमाग हमेशा तुम्हारे सचेत दिमाग को उपाय दिया करता है।

यह उपाय हैं जो तुम्हारी ज़िन्दगी को ताकत देते हैं सकारात्मक, उत्पादक और आत्मविश्वासी होने के लिए। जब तुम्हारे उपाय तुम्हारे कम आत्मविश्वास से छिपे होते हैं, तुम अपने आप को आगे बढ़ते नहीं बल्कि एक ही जगह घूमते हुए देखोगे।

सम्मोहन चिकित्सा का मकसत या किसी भी चिकित्सा का मकसत है तुम्हे सीधे आगे बढ़ाना तुम्हारी ज़िन्दगी में। तो बुनियादी, आसान, बहुत ही कामयाब तकनीक के ज़रिये, मैं लोगों की ज़िन्दगी में बदलाव लाता हूँ, बदलाव जो उन्हें अपने मकसत तक पहुंचाता है।

इस रिकॉर्डिंग को लेके, तुम अपनी मकसत तक पहुंचाए जाओगे, पूरी आत्मविशवास के साथ। जब मैं कहता हूँ पहुंचाए जओग, न किसी पागल की तरह बल्कि मेरा मतलब है जब तुम पूरी तरह से जागे हुए हो, बिल्कुल सचेत हो, तुम्हे अपनी ज़िन्दगी में आगे बढ़ने की काबिलियत होगी उस ताकत को इस्तमाल करके जो तुम्हारे सचेत दिमाग में है। बिना सोचे, तुम्हारा अवचेतन दिमाग तुम्हारे सचेत दिमाग को ताकतवर उपाय और उत्पादक मकसत खिलाता जायेगा। तुम हमेशा की तरह बर्ताव करोगे, जागे हुए, रोज़ की तरह। फर्क सिर्फ़ इतना होगा की तुम संभावनाए लोगे जो तुम पहले नहीं लेते थे।

लोगों से बात करना जो तुम पहले नहीं करते और वह चीज़ करना जो तुम्हारी ज़िन्दगी की गुणवता को बहतर करें, यह वह चीज़ है जो बिना सम्मोहन के तुम कभी नहीं करते। मेरे कई ग्राहक यह कहतें है की उनके ज़िन्दगी में जो लोग हैं वह एक बड़ा बदलाव देखते हैं उनके बर्ताव में – उनके साथ और दूसरों के साथ।

काम में तरक्की मिलना या काम भी मिलना असामान्य नहीं है इस सम्मोहन रिकॉर्डिंग का इस्तमाल करने से। तुम देखोगे की जब तुम आत्मविशवास में विशेष बन जाते हो तुम्हारे ज़िन्दगी का हर हिस्सा बदलने लगता है चाहे वह वज़न खोना हो, अच्छे अंख लेना हो या अपना प्यार पाना हो। तुम्हारी ज़िन्दगी के हर चीज़ पर साकारात्मक प्रभाव होगा जब तुम अपने आप में भरोसा करो इस सम्मोहन सीडी या एमपी3 के मदद से।

हर रात, इक्कीस रातों के लिए इस रिकॉर्डिंग को सुनो, तुम देखोगे की तुम्हारो ज़िन्दगी में बदलाव आता है जादू जैसे बिना किसी कोशिश के।

यहाँ है एक नमूना जिसका इस्तमाल किया गया है "असीमित आत्मविशवास" में:
मैं चाहती हूँ की तुम अपने आप को समुद्रतट के पास चलते हुए देखो और सोचो की तुम एक जगह आए हो जहाँ रेत में तुम्हारे बारे में बुरे शब्द लिखे गए हैं। यह वह शब्द हैं जो तुम्हे पहले दिए गए हैं और तुम्हे अपने सही मंजिल तक पहुँचने में रोके हैं। सच यह है की तुम विशवासी हो। तुम योग्य हो और तुम अच्छे इंसान हो। अभी उन शब्दों को रेत में देखो और अपने पैर के साथ उन्हें टोक दो। अपने पैरों के साथ उन शब्दों को वहाँ से मिटा दो। और अब देखो जैसे पानी समुद्र किनारे आती है तुम्हारे पैरों तले और तुम्हारे आस-पास की रेत को धो देती है। अब उन बुरे शब्दों का कोई मायना नहीं है। वह शब्द अब नहीं हैं और न पहले कभी थे क्योंकि सिर्फ़ तुम एक हो जिसने उन शब्दों को देखा है। अब तुम पलटकर समुद्र किनारे थोडी दूर चलते हो। तुम्हे और भी आत्मविश्वास होता है। तुम और भी ऊंचा खड़ते हो। तुम रेत में एक बड़े पत्थर की ओर आते हो। इस पत्थर पर एक डाली है और तुम उस डाली को उठाते हो और वह सारे शब्द लिखते हो जो तुम्हारी वर्णन करते हैं। तुम लिखते हो प्रतिभावित, तुम लिखते हो विशवासी, उन शब्दों को उस पत्थर पर हमेशा के लिए लिखते हुए। तुम लिखते हो निपुण। तुम लिखते हो अच्छे इंसान। तुम लिखते हो सकारात्मक। तुम लिखते हो सुंदर। तुम लिखते हो सक्षम। और अब जब मैं चुप-चाप हूँ, तुम कई शब्द लिखते हो उस डाली के साथ, शब्द जो तुम्हारी वर्णन करते हैं, जो वर्णन करते हैं तुम कितने अच्छे हो, ख़ास हो। देखो उन सारे शब्दों को जो तुमने इस पत्थर पर लिखे हैं। अब सोचो की तुम कितने अच्छे इंसान हो। तुम अपने आप में और अपने कार्य में विशवास करते हो। तुम जैसे दिखते हो, जो पहनते हो, जो करते हो, उन सब में विशवास करते हो। तुम अपने काम करनेवालों, दोस्तों, परिवारवालों और प्यार करनेवालों के साथ विशवासी हो। तुम्हे हर चीज़ आसानी से आती है। तुम आसानी से लोगों से बात कर सकते हो। तुम्हारी मुंह से बातें आसानी से बहती हैं। तुम बातचीत में बहुत अच्छे हो। लोग तुम्हारी बातों का इज्ज़त करते हैं। तुम बलवान हो, तुम इज्ज़तदार हो और सभी तुम्हे सक्षम और विशवासी देखते हैं। अब सोचो की तुम अपने आप को आईने में देख रहे हो। तुम देखोगे की तुम साकारात्मक ऊर्जा से भरे हो। सब देखते हैं की तुम कितने चमकदार हो। सभी को तुम्हारी यह साकारात्मक ऊर्जा दिखती है। देखो तुम कितने अच्छे दिखते हो। तुम बहुत सुंदर हो। तुम बिल्कुल वैसे दिखते हो जैसे तुम्हे दिखना चाहिए। तुम बिल्कुल वैसे दिखते हो जैसे तुम चाहते हो। सभी तुम्हारी इज्ज़त करते हैं और तुम अपने आप को इज्ज़त करते हो। अपने आप को खड़े हुए देखो, गर्व से भरे हुए, बलवान। तुम्हे अपने योग्यता और कुशलता का पूरा एहसास है। तुम समझते हो की तुम जिस चीज़ पर अपना दिमाग लगाते हो वह तुम पूरा कर सकते हो। आगे जाके तुम जो भी चाहो आज़ादी से कर सकते हो। अब से तुम उन बुरे शब्दों के कारण अपने आप को रोकते नहीं हो। वह शब्द हमेशा के लिए धो गए हैं। तुम्हे सिर्फ़ अच्छे शब्द दिखाई देते हैं तुम्हारा वर्णन करते हुए और तुम चमकदार ऊर्जा से भरे हुए हो। तुम्हारे मकसत व्यावहारिक हैं, तुम्हारे विचार रचनात्मक हैं और तुम्हारा दिमाग साकारात्मक विचारों से भरा हुआ है। तुम भविष्य को अपनी मुट्ठी में कसके आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ने के लिए तेयार हो। अब अपने आप को आज से छः महीने आगे देखो। तुम सचमुच आगे बढे हो और यह दिखता है। तुम अब अपने आप को पहले जैसे नहीं पहचान सकते। सिर्फ़ साकारात्मक शब्द जो तुम्हारी वर्णन करते हैं तुम्हारी दिमाग में हैं। पिछले छः महीनों में तुमने बहुत कुछ पूरा किया है। बड़े बड़े काम जो तुम अपनी आत्मविश्वास के कारण कर सकते हो। तुम्हारे आत्मविश्वास के कारण बाकी लोग तुम्हे एक नई इज्ज़त के साथ देखते हैं। तुम्हे दूसरों से बात करना अच्छा लगता है और वह तुम्हारी बातों में दिलचस्पी दिखाते हैं। तुम्हारा काम-काज अच्छा चल रहा है। चाहे तुम पढ़ रहे हो या काम कर रहे हो या अपनी व्यापार चला रहे हो, तुम जो भी कर रहे हो, वह तुम्हारे लिए अच्छा चल रहा है। तुम आसानी से अपने विचार और राय कह सकते हो क्योंकि वह तुम्हारे लिए महत्वपूर्ण हैं। इसलिए बाकी लोग भी उन्हें महत्वपूर्ण समझते हैं। तुम्हारे परिवारवालों और दोस्तों के साथ तुम्हारा रिश्ता अच्छा चल रहा है।

यहाँ है और भी जानकारी "असीमित प्रेरणा" आत्म-सम्मोहन सीडी और एमपी3 पर :

आत्मविशवास बढ़ाने के बाद, जो तुम मेरी असीमित आत्मविशवास रिकॉर्डिंग के साथ कर सकते हो, तुम अपनी नई काबिलियत के साथ कुछ करना चाहोगे।यह प्रेरणा की रिकॉर्डिंग तुम्हे वह काबिलियत और चाहत देती है की तुम उस आत्मविशवास को लो और ध्यान दो किसी चीज़ पर जो तुम पूरा करना चाहते हो।

चाहे तुम किताब लिखना चाहो, दुनिया जाने गायक या गायिका बनना चाहो, वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ना चाहो या बस अपनी अलमारी साफ़ करना चाहो, यह रिकॉर्डिंग तुम्हारे लिए है।

मैंने अपनी सबसे अच्छी बुद्धि इस रिकॉर्डिंग को लगाया है ताकि तुम बढ़ सको। ताकि तुम बाहर पहुँच सको और अन्दर भी। बाहर पहुँचो और अपनी पूरी काबिलियत हासिल करो और अन्दर पहुँचो तुम्हारी उन हिस्सों को खोजने के लिए जो हमेशा से रहे हैं लेकिन इस से पहले तुम्हारी नज़र से छुपे थे।

जब हम किसी चीज़ के बारे में प्रेरित होते हैं, हम आगे बढ़ते हैं और जब हम आगे बढ़ते हैं, दूसरों को हमारी प्रेरणा दिखाई देती है और वह हमें इस बारे में तारीफ़ करते हैं। इसलिए गति बढती है और जब गति है, हमारे पास ताकत होता है हमेशा आगे बढ़ने के लिए और हमेशा गति बढ़ाने के लिए। हमें कोई रोक नहीं सकता जब हम अपनी सच्ची सकारात्मकता को मानते हैं और हमारे सच्ची काबिलियत को जीते हैं।

इस असीमित प्रेरणा रिकॉर्डिंग को असीमित बुलाया गया है क्योंकि तुम्हारी काबिलियत वाकय ही बिना किसी बंधनों की है। सारे बंधन सिर्फ़ तुम्हारे दिमाग में हैं। तो जब हम एक बार उन बंधनों को अवचेतन मोड़ पर टाल देते हैं तब हम उन्हें समाप्त कर देते हैं और फिर हम आगे बढ़ सकते हैं बिना किसी हिचकिचाहट के। यह सच हैं की ज़िन्दगी में सबसे बड़ी रुकावट जो तुम देखोगे वह तुम ही हो।

एक बार तुम अपने आप को रास्ते से हटा दो, तुम देखोगे की कई चीज़ें होने लगेंगीं, कई चीज़ें आसान हो जायेंगे और कई अवसर ख़ुद पेश आयेंगे। ज़िन्दगी के किसी मोड़ पर, सब को थोड़ा सा प्रेरणा चाहिए। चाहे तुम्हारा मकसत हो नया व्यापार शुरू करना, मेरेथों दौड़ना या घर साफ़ करना, तुम्हे प्रेरणा की ज़रूरत है उस काम को शुरू से ख़तम तक लाने के लिए। कुछ लोगों के लिए प्रेरित होना आसान है छोटी मक्सतों के लिए लेकिन वह क्या चीज़ हो सकती है जो तुम्हे प्रेरित कर सकती है उस मकसत के लिए जिसे पूरी करने को शायद सालों लग जाएँ?

सोचो किसी मकसत के बारे में जो तुम पूरा करने की कोशिश कर रहे हो। शायद तुम किसी चीज़ पर कुछ दिनों से काम कर रहे हो, या शायद किसी मकसत पर कई सालों से काम कर रहे हो। सोचो उस मकसत का पूरा होने पर तुम्हे कैसे लगेगा। तुम्हारे मकसत को पूरा करना और प्रेरित होना तुम्हारा हक़ है।

चाहे तुम्हारा मकसत जो भी हो, किसी मोड़ पर तुम्हे प्रेरणा की ज़रूरत होगी। मैं चाहता हूँ तुम एक प्रेरक खोज लो चाहे वह व्यक्ति हो जो तुम्हे तुम्हारी मकसत तक पहुँचने में मदद करें या सम्मोहन रिकॉर्डिंग हो जो तुम सुन सको जब भी ज़रूरी हो। मेरी ज़िन्दगी में मैं दोनों का इस्तमाल करता हूँ। मेरे ज़िन्दगी में लोग हैं जो मुझे बढ़ावा देते हैं और अच्छी सलाह देते हैं और मैं अपनी रिकॉर्डिंग को सुनता हूँ जब मुझे थोडी और बढ़ावा चाहिए।

यहाँ है एक नमूना जिसका इस्तमाल किया गया है "असीमित प्रेरणा" आत्म-सम्मोहन सीडी और एमपी3 में:

सोचो की कोई भी चीज़ तुम्हे अपनी मकसत तक पहुँचने से नहीं रोक सकता। तुम वह कामयाब आदमी बन सकते हो जो तुम चाहते हो। सोचो एक निपुण दिन है। उस दिन जब तुम जागो और तुम्हे पता है की यह वैसा दिन होगा जब सब कुछ ठीक होगा। सब अपनी जगह होगी। तुम्हारे भावनाएं अच्छे हैं। तुम शान्ति एहसास करते हो। तुम संतुष्टि एहसास करते हो। तुम ने जो रेखाएं बनाई हैं उस में तुम आराम और सुरक्षित हो। अब तुम चुनते हो उन रेखाओं को बढ़ाना। सोचो की तुम उन रेखाओं को हटा रहे हो जो तुमने बनाए हैं और तुम अपना क्षितिज बढ़ा रहे हो, अपने मकसत बढ़ा रहे हो, और भी आगे बढ़ते हुए, अपने नए मक्सतों के साथ खुश हो। अपने नए क्षितिज के साथ तुम खुश हो। तुम्हे सुरक्षित और खुश लगता है की तुम में वह शक्ति और ताकत है बदलाव लाने ले लिए। अपनी सीमाओं को बदलाने के लिए और वह कामयाब आदमी बनने के लिए जो तुम चाहते हो। तुम्हारी भावनाएं अच्छी हैं। तुम शांत हो। तुम संतुष्ट हो। अब यह सोचो – इस ख़ास दिन को अपने भविष्य में देखो – एक दिन या दो, एक हफ्ता, एक महीना। सोचो की तुमने कई सुल्झनों का हल किया है, कई संघर्ष और वह अब तुम्हारे पीछे हैं। सोचो की तुम्हारे चेहरे पर मुस्कान है। तुम शांत हो, संतुष्ट हो, और तुम ने कई सुल्झनों का हल किया है, उनका जवाब मिला है। अब तुम्हे उन पिछले सुल्झनों से आज़ादी मिल गई है। तुम में आत्मविशवास है। तुम केंद्रित हो, बलवान हो। अब किसी मकसत या मंजिल के बारे में सोचो जो तुम पूरा करना चाहते हो। अपने आप को छोटी मक्सतों से अलग करते हुए बड़े मकसत पर ध्यान देते हुए देखो। अपने आप को ऊर्जा के साथ अपना काम करते हुए देखो। उसे ख़तम करते हुए देखो। तुम्हे नए अवसर दिखाई देंगे। तुम्हे नई चुनौतियाँ दिखाई देंगे जो पुरानेवालों से और भी रोमांचक होंगे। तुम अपने आप को नई ऊर्जा के साथ देखते हो। तुम उत्साहित हो, ध्यान देते हो, और पुराने विचारों से नए वाले उठते हैं। नई ऊर्जा और साकारात्मक भावनाएं उठते हैं। तुम कायाब हो। तुम ने अपना मकसत पहुँचा है। सोचो की तुम उस सारी चीज़ों के हकदार हो जो ज़िन्दगी तुम्हे देती है। तुम्हारी मकसत तक पहुंचना तुम्हारे लिए बहुत लाभदायक है और जैसे तुम ज़िन्दगी में और भी मक्सतों तक पहुंचोगे, उन्हें तुम साकारात्मक दृष्टि से देखोगे, अपने लिए, अपने परिवारवालों के लिए, अपने दोस्तों के लिए और अपने साथ काम करनेवालों के लिए। सोचो की तुम अपनी मकसत तक पहुँचने में ऊर्जा लगा रहे हो और बन रहे हो वह कामयाब आदमी जो तुम्हारा हक़ है। सोचो उन सारी साकारात्मक मक्सतों के बारे में जो तुमने पहले से पहुंचे हैं। यह तुम्हारे लिए और आस-पास रहनेवालों के लिए अच्छा है। अब सोचो की तुम कामयाब बन रहे हो। तुम खुश हो। तुम दूसरों के बारे में सोचते हो। तुम दूसरों की मदद करते हो और तुम्हारी कामयाबी सभी के लिए अच्छी है। तुम अपनी कामयाबी के साथ खुश हो। तुम अपनी कामयाबी अच्छे और हकदार काम के लिए इस्तमाल करते हो। कामयाबी तुम्हारा हक़ है। उसे देखो, एहसास करो, तुम कामयाब हो। तुम्हारा दिमाग साफ़ है। तुम अपने आप को एक बुद्धिमान, रोमांचक और सुंदर व्यक्ति के रूप में देखते हो जो तुम हो। तुम्हारे कई विकल्प हैं, मर्जियां हैं और तुम जो भी करोगे, जो भी रास्ता चुनोगे, यह जान लो की वह तुम्हारे लिए अच्छा ही होगा। तुम्हारी कामयाबी एक अच्छी घटना है तुम्हारे लिए और जो तुम्हारे ज़िन्दगी का हिस्सा हैं। तुम्हारा हर विकल्प और जो भी रास्ता तुम चुनते हो अभी के लिए बिल्कुल सही है। अब अपने आप को भविष्य में देखो कई अच्छे रास्तों और विकल्पों के साथ और इस चित्र को वर्तमान में लाओ। अपने आप को सुल्झनों का हल करते हुए देखो। अपने आप को आत्मविशवास के साथ कामयाब देखो कई साकारात्मक रास्तों के साथ चुनने के लिए और तुम्हे पता है तुम अपनी कामयाबी जारी रख सकते हो। तुम उन चीज़ों को चुन सकते हो जो तुम्हारी ज़िन्दगी को और भी बहतर बना सके।

यहाँ है और भी जानकारी "प्यार का लोहकांत" आत्म-सम्मोहन सीडी और एमपी3 पर :

तुम यह सोच सकते हो की सम्मोहन तुम्हे प्यार का लोहकांत बनाता है क्योंकि किसी और को तुम्हारी ओर भावनाएं होने में सम्मोहित किया जा रहा है। यह सच नहीं है, और फिर भी, कौन यह चाहेगा की किसी और की सोच को बदलाकर उन्हें प्यार कराने में ला दें?

यह बदलाव की तुम कितने प्यारे हो तुम्हारे अन्दर से आता है और सम्मोहन से बाहर आता है। यह पुरानी कहावत है की अगर तुम को तितली पकड़ना है तो चुप-चाप बैठे रहो और वह तुम्हारे पास आ जायेगा। जब दूसरों को आकर्षित करना हो तो चुप-चाप बैठने की ज़रूरत नहीं पर उनके पीछे भागना भी ज़रूरी नहीं है।

सम्मोहन के साथ, तुम ख़ुद को बदल सकते हो जिससे लोग तुम्हारी ओर वैसे ही आकर्षित होंगे, बिना उनके पीछे भागे। सम्मोहन का काबिलियत है तुमको साकारात्मक विचार देना जब तुम सबसे अनुकूलनीय हो उसे मिलने में – बिल्कुल शांत।

सम्मोहन के पाठ के पहले कदम हैं शांत हो जाना और निकाल देना वह सारी बुरी बातें जो तुम अपने आप से कहते हो। अगर तुम्हारी रोज़ी अंदरी बातें तुम से कह रही हैं की कोई तुम से बात नहीं करेगा तो तुम्हारी अवचेतन संकेत और बोले या न बोले बातों से यह दिखाई देंगे।

यह एहेम है की उस अंदरी बात को साकारात्मक में बदलाओ ताकि तुम्हे सच में लगे की तुम जिस प्यार को खोज रहे हो वह वाकय ही तुम्हारा हक़ है।

सम्मोहन चिकित्सक स्टीव जी जोन्स ने एक आत्म प्रशासित सम्मोहन चिकित्सा का पाठ विकसित किया है जिसका नाम है अपनी दिमाग को ताकत दो प्यार का लोहकांत बनने के लिए और उस में वह तुम को एक शान्ति की मोड़ में लायेंगे जिससे तुम अपनी काबिलियत के संदेशों को प्रास करने के लिए तेयार हो जाओगे। यह साकारात्मक प्रतिज्ञाएँ फिर क्रियाएँ बन जायेंगे जिससे लोग तुम्हारी ओर आकर्षित होंगे।

सभी को प्यार मिलने का हक़ है, लेकिन कुछ लोगों को यह एहसास नहीं होता।

प्यार का लोहकांत होना क्या है? मुझसे हर बार यह सवाल पूछा जाता है। प्यार का लोहकांत प्यार के लिए आकर्षण का क़ानून है। तुम जिस पर भी तुम्हारी ध्यान और ऊर्जा इस्तमाल कर रहे हो (जहाँ तक प्यार है) उसी को तुम आकर्षित करोगे। देखो की तुम किस तरह के लोगों को आकर्षित कर रहे हो और देखो की तुम उनको क्या दिखा रहे हो, यह दोनों शायद एक ही हैं।

अगर तुम पहले से किसी दूसरे किस्म के आदमी या औरत को आकर्षित करना चाहते हो, फिर तुम्हे बदलना होगा जो तुम उन्हें दिखा रहे हो, इतनी आसान है! जब तुम प्यार का लोहकांत प्राप्त करोगे, तुम अपने आप के लिए सही किस्म के व्यक्ति को आकर्षित करोगे।

हम सब प्यार की खोज में हैं। लेकिन किसी को यह मिला है और किसी को नहीं। प्यार एक ख़ास और ताकतवर चीज़ है और मैं चाहती हूँ की सभी उस चीज़ को खोज लें जो उन्हें खुश करता है।

यहाँ है एक नमूना "प्यार का लोहकांत" का :
और जैसे तुम पूरी शान्ति से बहते हो, अपने आप को और विश्वासी बनते हुए देखो और महसूस करो, आकर्षक और मनोहर बनने और एहसास करने की चुनो। तुम देखोगे की तुम हर किसीसे आसानी और बिन हिचकिचाए बात कर सकते हो। क्योंकि तुम अब सुरक्षित हो, तुम में आत्मविशवास है और तुम आकर्षक हो। अब सोचो उस जीवन साथी के बारे में जो तुम्हारे लिए बिल्कुल सही है और मैं चाहती हूँ तुम उन गुणों के बारे में सोचो जो तुम्हे अपने जीवन साथी में चाहिए। थोड़ा सोचो उनके बाल कैसे होंगे। अच्छा अभी सोचो तुम अपने जीवन साथी के आंखों में झाँक रहे हो, उनके आँख कैसे होंगे? अच्छा अभी सोचो तुम अपने जीवन साथी के बदन को देख रहे हो, उनका बदन कैसा होगा? अच्छा अभी सोचो तुम्हारे जीवन साथी के हंसी के बारे में। सोचो उनकी हंसी कैसी होगी? अच्छा अभी सोचो तुम्हारे जीवन साथी के आवाज़ के बारे में, उनकी आवाज़ सुनो। उनकी आवाज़ कैसी होगी? अच्छा अभी मैं चाहती हूँ तुम सोचो अपने जीवन साथी के दर्शन के बारे में, वह ज़िन्दगी के बारे में क्या सोचते हैं? सोचो तुम उस पे विचार कर रहे हो। अच्छा अब मैं चाहती हूँ तुम सोचो अपने जीवन साथी के पसंद या नापसंद के बारे में, उनके शौक क्या होंगे? उनको किन चीज़ों में दिलचस्पी होगी? उनको क्या करना अच्छा लगेगा? उनको कहाँ जाना अच्छा लगेगा? अब तुम्हारे जीवन साथी के पसंद या नापसंद के बारे में सोचो। अच्छा अब मैं चाहती हूँ की तुम अपने जीवन साथी को देखो, भीतर और बाहर से, पूरी तरह से। सोचो की तुम उनको देख रहे हो। अच्छा अब एहसास करो की कितना अच्छा लगता है तुम्हारे जीवन साथी के साथ होना। उनके साथ कुछ पल गुजारना। उनके साथ होना। और तुमको एहसास होगा की तुम उनको तुम्हारी ज़िन्दगी में स्वीकार करोगे। तुम प्यार के हकदार हो। तुम खुशी के हकदार हो। तुम्हे प्यार देने और मिलने का हक़ है। और तुम समझते हो की तुम ज़िन्दगी में जीवन साथी को स्वीकार करने के लिए तैयार हो। अब तुम्हे एहसास होगा की तुम्हारे जीवन साथी को तुम्हारी ओर आकर्षित करने के लिए तुम में कुछ ख़ास गुण होने चाहिए जो तुम्हारे जीवन साथी पहचाने और उन्हें लुभाएँ। तुम्हे एहसास है यह ज़रूरी है की तुम अपने अन्दर से अपने अच्छे से अच्छे गुण दिखाओ। जो गुण मैं अभी बोलनेवाली हूँ वह तुम में पहले से ही हैं। तुम्हे अब यह एहसास है की उन गुणों को दिखाना कितना ज़रूरी है और उन्हें पूरी तरह से विकसित करना ताकि तुम अपने साथी को पूरी तरह से आकर्षित कर सको। तो जैसे मैं हर गुण का नाम लूँ मैं चाहती हूँ की तुम थोड़ा सोचो की तुम अपने आप में उस गुण को कैसे विकसित कर सकते हो ताकि तुम अपने आप को और भी आकर्षित बना सको। यह तुम्हारी मदद करेगा तुम्हारे जीवन साथी को लुभाने में और तुम्हारे बारे में अच्छा लगने में ताकि तुम खुशी से जी सको। अच्छा अब एक गुण जो तुम अपने आप में दिखा सकते हो और ज्यादा विकसित कर सकते हो वह है दूसरों का ध्यान रखना। सोचो तुम किस तरीके से दूसरों का ध्यान रख सकते हो। अच्छा और एक गुण जो तुम विकसित करना चाहोगे वह है हास्य का भाव। बेशख तुम्हारी अपनी हास्य की भाव होगी। कुछ चीज़ें जो तुमको मजाकी लगते हैं। मजाकिया होना, आसानी से हंसना और अच्छे पल बिताना, यह सारे आकर्षक गुण हैं। तो अब सोचो की तुम अपने हास्य के भाव को पूरी तरह से कैसे विकसित कर सकते हो। अच्छा और एक गुण जो तुम विकसित करना चाहोगे वह है तुम्हारा ज्ञान। लोग उनके ओर आकर्षित होते हैं जो ज्ञानी होते हैं। बेशख तुम्हारे कई शौक हैं। आनेवाले पल में मैं चाहती हूँ की तुम सोचो तुम्हारे सारे पसंद या नापसंद के बारे में और सोचो की तुम उस हर पसंद या नापसंद को कैसे विकसित कर सकते हो। उनके बारे में पढने से या एहसास करने से या उनके बारे में किसी और से बात करने से। अच्छा एक और गुण जो दूसरों को तुम्हारे ओर आकर्षित करता है वह है अच्छी तरह से बात करना। इसका मतलब है साफ़ बात करना, कई चीज़ों के बारे में बात करना और उस आवाज़ में बात करना जो दूसरों को सुनने में आसानी हो। तो अगले कुछ पल के लिए सोचो की तुम किस तरह से अच्छे तरीके से बात कर सकते हो।

*********

Content on Recordings

Beach induction – समुद्रतट पर अनुमान

अपनी आँखें बंद करो। अपने बदन और दिमाग को आराम करने में ध्यान दो। गहरी साँस लो। अपने फेफडों को हवा से भरते हुए, धीरे से। अब अपना मुंह थोड़ा सा खोलो और उस हवा को धीरे से अपने फेफडों से बाहर निकालो। अपने आप आराम होते हुए महसूस करो। अब दोबारा, गहरी साँस लो, अपने छाते को धीरे से बड़ा करते हुए। रुक जाओ। और धीरे से साँस निकालो, हर दम शांत होते हुए जैसे तुम हवा निकालते हो। तुम बिल्कुल शांत होने में ध्यान देते हो। फिर, धीरे से, साँस लो, अपनी बदन को उठते हुए महसूस करो। और एक सेकंड के लिए रोक दो, और धीरे से निकालो, अपनी छाती को वापस नीचे जाते हुए महसूस करो। तुम्हारी साँसें लगातार हैं। और यह तुम्हें शांत करता है। अब अपनी साँसों पर ध्यान दो। अब तुम एक जगह जानेवाले हो जहाँ तुम्हें और भी शान्ति मिलेगी। तुम पहले से कई ज्यादा शांत होगे। तुम समुद्रतट पर हो। जैसे तुम समुद्रतट पर खड़े हो, तुम्हारे होश जाग उठते हैं और तुम अपनी आस-पास छोटी सी छोटी चीज़ को ध्यान देते हो। तुम इस सफ़ेद रेत के समुद्रतट को अपनी दायें और बाएं ओर देखते हो, वह दोनों तरफ़ चलती ही जा रही है। तुम पानी को देखते हो। छोटे लहरें तुम्हारी ओर आ रहे हैं। पानी के रंग को देखो। एक दम नीला है। जितनी दूर तुम देख सकते हो, उतनी दूर पानी है। तुम ऊपर आसमान में पंछियों को उड़ते देखते हो। तुम उनकी आवाज़ सुन सकते हो। देखो वह कैसे हवा में उड़ते हैं, इतनी आसानी से। तुम पानी के पास चलते हो। तुम पानी के किनारे हो। पानी को तुम्हारे पैरों के आस-पास महसूस करो। पानी गरम और ताज़ा है। तुम अपनी पैरों के उँगलियों को रेत में हिलाते हो, तुम्हारे नंगे पैरों पे यह अच्छा लगता है। तुम थोडी देर के लिए लहरों के धीमी आवाज़ को सुनते हो। हर लहर जो तुम्हारी ओर आता है, तुम और शांत हो जाते हो। तुम गहरी साँस लेते हो और नमकीन हवा को सूंघते हो। यह साफ़ और शुद्ध लगता है। तुम बिल्कुल शांत हो। तुम समुद्रतट में चलने की सोचते हो। तुम बहुत धीरे चलते हो, हर कदम की आनंद लेते हुए। तुम बिल्कुल शांत हो यहाँ इस समुद्रतट पर। तुम चलते रहते हो। इस समुद्रतट पर और कोई नहीं है सिवाय तुम्हारे। तुम्हे यहाँ बहुत सुखद लगता है । जैसे तुम चलते हो, तुम झुककर एक सीप निकालते हो। वह गुलाब और सफ़ेद है। तुम उसे अपनी उँगलियों के साथ छूते हो और वह एक तरफ़ चिकना है और बाहरी तरफ़ ऊबड़। तुम उसे अपने कान के पास लाते हो और तुम्हे समुद्रतट की आवाज़ सुनाई देती है। तुम उस सीप को वापस समुद्रतट में रखते हो और चलते रहते हो। तुम एक बड़े सुखद चादर के पास आते हो और तुम उस पर लेट जाते हो। तुम अपनी पीट पर लेटे हो और तुम्हें नरम हवा का एहसास होता है। तुम्हारा बदन रेत और चादर से रक्षित है। तुम अपने पूरे बदन को शांत करते हो। अपने सर पे ध्यान दो। तुम्हारे माथे के सीपियों को आराम कराओ। यह अच्छा लगता है। अब अपनी मुंह थोड़ा सा खोलो और जबड़े को आराम करो। सारा तनाव गायब हो जाने दो। अपने गर्दन को दोनों तरफ़ घुमाओ और ऊपरी बदन के सीपियों को आराम करो। अब अपनी बाहों पर काम करो। तुम्हारे कन्धों, बाहों और हाथों को आराम हो जाने दो। अपनी नीजी बदन और पेट पे ध्यान दो। महसूस करो हर इंच को शांत होते हुए। तुम्हे अच्छा लगता है। तुम्हारी ऊपरी बदन शांत है। अब ध्यान दो नीचे तुम्हारे कमर और नितम्बों को। सारा तनाव चला गया है। आगे बढो। तुम्हारे जांघों – उनको आराम करो। तुम बहुत शांत हो रेत में उस चादर पर। अब और नीचे ध्यान दो अपनी घुटनों, पिण्डली और पैर के अगले भाग को। अपनी घुटनों को थोड़ा सा झुकाकर उनको आराम करो। अपनी एडियों को थोड़ा हलाओ ताकि उन में तनाव न हो। सारी तनाव को अपनी पैरों से जाते हुए महसूस करो। अच्छा लगता है। तुम्हारे पैर के मुख्य भाग को आराम करो और पैर के उँगलियों को हिलाओ। तुम्हारा सारा बदन अब शांत है। तुम अब पहले से भी ज्यादा शांत हो। तुम चादर पर लेटे हो, तुम्हारा बदन बिल्कुल शांत है। तुम नरम हवा को महसूस करते हो। तुम्हे पास लहरों की आवाज़ सुनाई देती है। बिल्कुल आराम होना कितना अच्छा लगता है। अपनी बदन और दिमाग को तनाव से आजाद करना अच्छा महसूस होता है। अब तुम चादर पर लेटे हो और शांत रहते हो।

Deepening – गहराई

तुम अब धीरे से उठते हो और आँखें खोलते हो और बाहर सुंदर पानी और आसमान को देखते हो। तुम सूरज और क्षितिज को देखते हो। आसमान लाल, नारंगी, बैंगनी और गुलाब के रंगों से भरा हुआ है। तुम देखते हो कि सूरज ढलनेवाला है। जैसे मैं दस से गिनती हूँ, सूरज और भी क्षितिज के ओर ढल जाता है और तुम ज्यादा शांत हो जाते हो मेरी हर गिनती के साथ। दस – सूरज बस थोड़ा सा ढलता है और तुम ख़ुद को आराम करते हुए महसूस करते हो। नौ – तुम और भी गहरी तरह से आराम हो जाते हो। तुम सूरज को और नीचे जाते हुए देखते हो और तुम्हे अच्छा लगता है। आठ – और गहरा। सात – तुम्हे और भी शांत लग रहा है जैसे तुम सूरज को ढलते देखते हो। छः – तुम सम्मोहन में और शांत हो जाते हो। पाँच – सूरज क्षितिज के एक कदम पास है और तुम शांत हो। चार – तुम गहरी तरह से शांत हो। तीन – और गहरा। तुम सूरज को नीचे जाते देखते हो, नीचे। दो – तुम बहुत ही शांत हो और अगले गिनती पर तुम बिल्कुल शांत हो जाओगे। एक – तुम बहुत शांत हो। बहुत आराम हो। अब हम तुम्हारे अवचेतन दिमाग पर ध्यान देंगे, बदलाव लाने के लिए और आगे बढ़ने के लिए।

Reach/maintain weight – सही वज़न पहुंचना / बनाये रखना

क्यूंकि तुम अब शांत और आराम हो, तुम किसी भी मकसत को कामयाबी से पहुँच सकते हो। किसी भी वज़न तक पहुंचकर उस वज़न पर रह सकते हो। तुम यह सोच रहे हो कि तुम उस वज़न तक पहुँच गए हो जो तुम चाहते हो और तुमने उस वज़न को बनाए रखा है। तुम यह सोच सकते हो, महसूस कर सकते हो कि तुम दुबले-पतले हो, तुम्हारे सीपियाँ कसे हुए हैं, तुम्हारा बदन बिल्कुल तंदुरुस्त है। तुम्हारा अवचेतन दिमाग अब इस चित्र पर काम करेगा और उसे महसूस करेगा और उसे यथार्थ बनाएगा और तुम अपने आप को अपनी सही वज़न तक पहुँचने की अनुमती दोगे। तुम उस वज़न तक पहुँच सकते हो जो तुम कहते हो और उस वज़न को खोकर बनाए रखोगे। तुम बुरे खाने की आदतों को अच्छे खाने की आदतों में बदलते हो। तुम इसे आसानी से होने देते हो। अब सोचो की तुम्हारे आगे एक मेज़ है और इस मेज़ पर तुम वह सारी खाने की चीज़ें भरते हो जो तुम्हारे लिए हानिकारक हैं, तुम्हारे भावनाओं के लिए बुरे हैं। इन चीज़ों के बारे में सोचो। उन्हें तुम मेज़ पर रखते हो। यह सारी चीज़ें तुम्हारे लिए हानिकारक हैं। तुम्हारे बदन के लिए ज़हर जैसे हैं। इन चीज़ों को खाने से तुम्हारी तबियत ख़राब हो सकती है। अगर तुम उन चीज़ों को खाओगे, तुम बहुत कम खाओगे। इन चीज़ों को कम खाने से तुम बिल्कुल संतुष्ट हो। तुम और खा नहीं सकते तो तुम इन चीज़ों को मेज़ से हटा देते हो। तुम्हारा बदन इन चीज़ों को स्वीकार नहीं करता। तुम्हारा दिमाग और तुम्हारी भावनाएं इन चीज़ों को स्वीकार नहीं करते। तुम मेज़ को साफ़ करते हो और अब उस खाली मेज़ पर रखते हो वह सारी खाने की चीज़ें जो तुम्हे पसंद हैं। अच्छे तंदुरुस्त चीज़ें। वह खाना जिस में कम कालोरिएस हो। यह वह फल हैं जो तुम्हे पसंद हैं, अच्छे, साफ़ और कड़क हैं। वह सब्जियां जो तुम्हे पसंद हैं। तुम इन अच्छे तंदुरुस्त खाने की चीज़ों को देखते हो और सोचते हो की तुम उन्हें खा रहे हो। और तुम धीरे खाते हो। धीरे खाओ। चाहे तुम किसी से बात कर रहे हो या नहीं, तुम्हे पता है की तुम कितना खा रहे हो और तुम कम खाते हो और रुक जाते हो। और वह अच्छा लगता है। तुम सही खाते हो और तुम बिल्कुल खुश हो। तुम एक भोजन के समय से दूसरे तक खुश हो और तुम्हे इन दो भोजन के समय के बीच कुछ खाने की कोई इच्छा नहीं है। तुम्हे ख़ुद पर गर्व है। तुम अपनी ज़िन्दगी के सारे अच्छे चीज़ों के बारे में सोचते हो, तुम्हारे मकसत और कम्याबों को जो तुमने पहले से पूरे किए हैं। और तुम जानते हो की तुम कामयाब बनते रहोगे, तुम्हारी हर मकसत तक पहुँचते हुए और तुम्हारे लिए सबसे तंदुरुस्त और सकारात्मक ज़िन्दगी बनाते हुए। और अब सोचो तुम ख़ुद को देख रहे हो। तुम अच्छे दिखते हो और अच्छा महसूस करते हो। तुम आराम और शांत हो और खाना तुम्हारे लिए कम महत्त्व रखता है और तुम धीरे खाने में खुश हो। नाश्ता तुम्हारे लिए एहेम नहीं है चाहो तुम घर पर हो या काम पर, तुम जहाँ भी हो या जो भी कर रहे हो। तुम होटल में थोड़ा सा खाना खा सकते हो और धीरे से खा सकते हो। तुम थोड़ा सा खाना छोड़ भी दो तो ठीक है। चाहे तुम दबाव में हो, तुम और भी शांत और आराम में हो और खाना तुम्हारे लिए महत्वपूर्ण नहीं है। तुम्हे ख़ुद पर गर्व है। इसके इनाम ज़बरदस्त हैं। और अब तुम जब भी खाने के बारे में सोचोगे, तुम वह अच्छे तंदुरुस्त खाने की चीज़ चुनोगे और तुम सही खाओगे, और जब तुमने सही खाया है, तुम ख़ुद को रोक सकोगे। तुम कुछ बाकी छोड़ो भी तो वह ठीक है। तुम बस खाना बंद कर दोगे और आराम करोगे और अपनी आत्मविश्वास और शान्ति को अपनी बदन में बहने दोगे। अब तुम पहले से और भी प्रेरित हो अपने लिए सबसे तंदुरुस्त और अच्छी ज़िन्दगी बनाने के लिए। पुराने खाने की आदतों को नए आदतों में बदलना, तुम्हारी सही वज़न तक पहुंचना और उसी को बनाए रखना। तुम्हे अच्छा लगता है और तुम्हे एक नए और तंदुरुस्त महत्वपूर्ण ऊर्जा का एहसास होता है जो तुम्हारे बदन और दिमाग के अन्दर बहता है। तुम्हारे विचार अच्छे हैं, भरोसे से भरे हैं। तुम अपनी सारी अच्छे गुंणों के बारे में सोचते हो, तुम्हारी बुद्धि और रचनात्मकता और तुम ख़ुद को खूबसूरत समझते हो जो तुम हो। और तुम इन अच्छे एहसासों को दिन-रात बढ़ने देते हो और अब तुम आराम कर सकते हो।

Unlimited wealth – असीमित दौलत

तुम्हे एहसास होता है की तुम पैसों का लोहकांत हो। पैसा आसानी से तुम्हारे हाथ में आ जाता है। तुम भरपूर हो। सब तुम्हारे पास आ रहा है। तुम दूसरों के साथ मज़बूत और ताकतवर रिश्ते जोड़ते हो और यह तुम्हारे भरपूर दौलत का कारण है। तुम दूसरों से रिश्ते जोड़ने में आनंद लेते हो। तुम्हारे दुनिया के ओर जो भी योगदान हैं वह अद्भुत हैं। तुम जो हो वह तुम्हारी ज़िन्दगी में जूनून बन जाता है। तुम हर रोज़ बिल्कुल व्यस्त हो। तुम्हारे पास असीमित ऊर्जा है। तुम नए और मौलिक रास्ते ढूँढ़ते हो दूसरों की योगदान करने के लिए। तुम काफ़ी हो। तुम ताकतवर हो। तुम अपनी सुल्झानों और एतराजों को छोड़ दो। तुम अपनी दौलत की मंजिलों पर ध्यान दो और उन्हें पूरा करो, अपनी निवल संपत्ति हमेशा बढाते हुए। तुम भरपूर जीवन जी रहे हो। तुम कामयाब हो। अपने आप को कामयाब देखो उन सारे चीज़ों के साथ जिन पर तुम्हारा हक़ है जैसे की एक सुंदर घर, बड़ा बैंक खाता, और जो भी तुम चाहो। सोचो की तुम एक पहाड़ के नीचे हो। उस पहाड़ की चोटी को देखना मुश्किल है मगर तुम उसे चढ़ते हो। यह एक ऊंचा पहाड़ है लेकिन हर कदम तुम्हे चोटी की ओर लाता है। देखो एक जलता हुआ चिराग पेडों के ऊपर पहाड़ के चोटी के ओर। तुम्हे लगता है की तुम्हे पता लगाना चाहिए की वह क्या है। जहाँ तुम हो वहाँ पेड़ ज्यादा हैं। उनके आस-पास चलना मुश्किल है मगर तुम्हे लगता है की तुम चलने में बहतर होते जा रहे हो। यह पेड़ वह मुसीबत है जो तुम्हे टालना होगा पहाड़ के चोटी तक पहुँचने के लिए। तुम्हारे पीछे देखो की वहाँ पेड़ नहीं है, सिर्फ़ घांस है हवा में नाचते हुए। तुम्हारे पीछे सारे पेड़ गुम गए हैं क्योंकि वह सब तुम्हारी मुश्किलें हैं जो तुमने टाल दिए। तुम पहाड़ को चढ़ते जाते हो। और अब तुम एक चट्टान पे आते हो। वह जलता हुआ चिराग अब और भी उजला है। लगता है वह चट्टान के आगे है और तुम उसे चढ़ना शुरू करते हो। पहले यह मुश्किल है मगर जैसे तुम चढ़ते जाते हो और भी आसान हो जाता है। तुम्हारे हाथ और पैर बिना किसी कोशिश के पहाड़ के चारों ओर चलते हैं। एहसास करो की अभी तुम चढ़ रहे हो। और इन भावनाओं को तुम अपनी उन कोशिशों के साथ तौल सकते हो जो तुम आगे जाके अपनी भरपूर दौलत के लिए करोगे। देखो चढ़ना कितना आसान बन जाता है और तुम चढ़ते जाते हो, यह अब तुम्हारे लिए आसान है क्योंकि तुम अपने मकसत पर ध्यान दे रहे हो। तुम उस चिराग के मकसत पर ध्यान देते हो और रोज़ तुम भरपूर दौलत के मकसत पर ध्यान देते हो। चढ़ते रहो। अपनी उँगलियों को पत्थर पर देखो। एहसास करो तुम्हारे पैरों को उन पत्थरों पर चढ़ते हुए, हर स्थिति के साथ सौदा करते हुए जैसे वह आता है। तुम चढ़ते रहो। जो भी हो तुम चढ़ते रहो। तुम्हारे हाथ और पैर आसानी से पत्थरों पर चलते हैं। अब तुम अपने पीछे देखो, अपने नीचे देखो और तुम्हे एहसास होगा की कितना मुश्किल लगता था, तुमने कितना पूरा किया है और तुम चढ़ते रहो। तुम ताकतवर महसूस करते हो जैसे तुम ऊपर पहुँचते हो। जैसे तुम आगे देखते हो पेडों से भरा एक रास्ता है जो पहाड़ के चोटी की ओर जाता है। बीच में कुछ पत्थर हैं, पर तुम चलते हो या पत्थरों के आगे कूदते हो। तुम चुनौतियों से लड़ते हो। और तुम अपने रास्ते पर बढ़ते जाते हो। अपने सफर में आनंद लेते हो पर ध्यान देते हुए, तुम बहुत उत्तेजित हो और तुम देखना चाहते हो उस पहाड़ के ऊपर क्या है। क्या होगा वहाँ? तुम सोचते हो। तो तुम जल्दी चलते हो और जैसे तुम जल्दी चलने लगते हो तुम्हारी रोज़ी ज़िन्दगी तेज़ी से धनि बहुलता की ओर जाता है, तेज़ी से भरपूर दौलत की ओर। हर कदम आसान होता जाता है तुम्हारे लिए। अब तुम लाल लकड़ीवाले पेडों तक पहुँचते हो। यह बहुत चौडे हैं और आस-पास हैं। पेडों के बीच में से उजाला दिखाई देता है। तुम अपने आप को दो पेडों के बीच निचोड़ते हो। तुम यहाँ के हो और फिर तुम एक अद्भुद चीज़ देखते हो। पहाड़ के चोटी पर खजाने का ढेर है। हर जगह सोना, पैसा और शानदार चीज़ें हैं। तुम दौलत और धन से घेरे हुए हो। यह सारी ख़ास चीज़ें तुम्हारी कामयाबी और मक्सतों के प्रतिनिधि हैं जिनके तुम सपने देख रहे थे। अब मैं चाहती हूँ की तुम आराम हो अपने भरपूर दौलत के साथ, जैसे तुम यहाँ इस सब के बीच खड़े हो। पैसा, सोना, यह सारी शानदार चीज़ें। तुम्हे यह सोचने की आज़ादी दो की तुम्हारे पास कई चीज़ें होना ठीक है, दौलती होना ठीक है। यह सोचना की पैसा होना अच्छा है और इस पैसे के साथ तुम कई ख़ास चीज़ कर सकते हो और तुम दूसरों की मदद कर सकते हो। तुम्हे एहसास होता है की तुम कामयाब हो। तुम बहुत कठिनाई से यहाँ तक आए हो और तुम कामयाब हो। तुम जो कुछ चाह सकते हो वह इस पहाड़ के ऊपर है। अपने आप को इस सोने के भण्डार के बीच कूदने की इजाज़त दो और तुम्हे अच्छा लगेगा क्योंकि तुम यहाँ इतना सारा काम करने के बाद आ पहुंचे हो। तुम फिर पहाड़ के नीचे देखते हो और रास्ता साफ़ है। अब चलना आसान होगा क्योंकि तुम ने पहले से ही ऊपर तक पहुँचने का मकसत पूरा किया है। तुम कामयाब हो। तुम अपनी पैसों और कामयाबी के साथ कई चीज़ें कर सकते हो।

Unlimited confidence – असीमित आत्मविशवास

मैं चाहती हूँ की तुम अपने आप को समुद्रतट के पास चलते हुए देखो और सोचो की तुम एक जगह आए हो जहाँ रेत में तुम्हारे बारे में बुरे शब्द लिखे गए हैं। यह वह शब्द हैं जो तुम्हे पहले दिए गए हैं और तुम्हे अपने सही मंजिल तक पहुँचने में रोके हैं। सच यह है की तुम विशवासी हो। तुम योग्य हो और तुम अच्छे इंसान हो। अभी उन शब्दों को रेत में देखो और अपने पैर के साथ उन्हें टोक दो। अपने पैरों के साथ उन शब्दों को वहाँ से मिटा दो। और अब देखो जैसे पानी समुद्र किनारे आती है तुम्हारे पैरों तले और तुम्हारे आस-पास की रेत को धो देती है। अब उन बुरे शब्दों का कोई मायना नहीं है। वह शब्द अब नहीं हैं और न पहले कभी थे क्योंकि सिर्फ़ तुम एक हो जिसने उन शब्दों को देखा है। अब तुम पलटकर समुद्र किनारे थोडी दूर चलते हो। तुम्हे और भी आत्मविश्वास होता है। तुम और भी ऊंचा खड़ते हो। तुम रेत में एक बड़े पत्थर की ओर आते हो। इस पत्थर पर एक डाली है और तुम उस डाली को उठाते हो और वह सारे शब्द लिखते हो जो तुम्हारी वर्णन करते हैं। तुम लिखते हो प्रतिभावित, तुम लिखते हो विशवासी, उन शब्दों को उस पत्थर पर हमेशा के लिए लिखते हुए। तुम लिखते हो निपुण। तुम लिखते हो अच्छे इंसान। तुम लिखते हो सकारात्मक। तुम लिखते हो सुंदर। तुम लिखते हो सक्षम। और अब जब मैं चुप-चाप हूँ, तुम कई शब्द लिखते हो उस डाली के साथ, शब्द जो तुम्हारी वर्णन करते हैं, जो वर्णन करते हैं तुम कितने अच्छे हो, ख़ास हो। देखो उन सारे शब्दों को जो तुमने इस पत्थर पर लिखे हैं। अब सोचो की तुम कितने अच्छे इंसान हो। तुम अपने आप में और अपने कार्य में विशवास करते हो। तुम जैसे दिखते हो, जो पहनते हो, जो करते हो, उन सब में विशवास करते हो। तुम अपने काम करनेवालों, दोस्तों, परिवारवालों और प्यार करनेवालों के साथ विशवासी हो। तुम्हे हर चीज़ आसानी से आती है। तुम आसानी से लोगों से बात कर सकते हो। तुम्हारी मुंह से बातें आसानी से बहती हैं। तुम बातचीत में बहुत अच्छे हो। लोग तुम्हारी बातों का इज्ज़त करते हैं। तुम बलवान हो, तुम इज्ज़तदार हो और सभी तुम्हे सक्षम और विशवासी देखते हैं। अब सोचो की तुम अपने आप को आईने में देख रहे हो। तुम देखोगे की तुम साकारात्मक ऊर्जा से भरे हो। सब देखते हैं की तुम कितने चमकदार हो। सभी को तुम्हारी यह साकारात्मक ऊर्जा दिखती है। देखो तुम कितने अच्छे दिखते हो। तुम बहुत सुंदर हो। तुम बिल्कुल वैसे दिखते हो जैसे तुम्हे दिखना चाहिए। तुम बिल्कुल वैसे दिखते हो जैसे तुम चाहते हो। सभी तुम्हारी इज्ज़त करते हैं और तुम अपने आप को इज्ज़त करते हो। अपने आप को खड़े हुए देखो, गर्व से भरे हुए, बलवान। तुम्हे अपने योग्यता और कुशलता का पूरा एहसास है। तुम समझते हो की तुम जिस चीज़ पर अपना दिमाग लगाते हो वह तुम पूरा कर सकते हो। आगे जाके तुम जो भी चाहो आज़ादी से कर सकते हो। अब से तुम उन बुरे शब्दों के कारण अपने आप को रोकते नहीं हो। वह शब्द हमेशा के लिए धो गए हैं। तुम्हे सिर्फ़ अच्छे शब्द दिखाई देते हैं तुम्हारा वर्णन करते हुए और तुम चमकदार ऊर्जा से भरे हुए हो। तुम्हारे मकसत व्यावहारिक हैं, तुम्हारे विचार रचनात्मक हैं और तुम्हारा दिमाग साकारात्मक विचारों से भरा हुआ है। तुम भविष्य को अपनी मुट्ठी में कसके आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ने के लिए तेयार हो। अब अपने आप को आज से छः महीने आगे देखो। तुम सचमुच आगे बढे हो और यह दिखता है। तुम अब अपने आप को पहले जैसे नहीं पहचान सकते। सिर्फ़ साकारात्मक शब्द जो तुम्हारी वर्णन करते हैं तुम्हारी दिमाग में हैं। पिछले छः महीनों में तुमने बहुत कुछ पूरा किया है। बड़े बड़े काम जो तुम अपनी आत्मविश्वास के कारण कर सकते हो। तुम्हारे आत्मविश्वास के कारण बाकी लोग तुम्हे एक नई इज्ज़त के साथ देखते हैं। तुम्हे दूसरों से बात करना अच्छा लगता है और वह तुम्हारी बातों में दिलचस्पी दिखाते हैं। तुम्हारा काम-काज अच्छा चल रहा है। चाहे तुम पढ़ रहे हो या काम कर रहे हो या अपनी व्यापार चला रहे हो, तुम जो भी कर रहे हो, वह तुम्हारे लिए अच्छा चल रहा है। तुम आसानी से अपने विचार और राय कह सकते हो क्योंकि वह तुम्हारे लिए महत्वपूर्ण हैं। इसलिए बाकी लोग भी उन्हें महत्वपूर्ण समझते हैं। तुम्हारे परिवारवालों और दोस्तों के साथ तुम्हारा रिश्ता अच्छा चल रहा है।

Unlimited motivation – असीमित प्रेरणा

सोचो की कोई भी चीज़ तुम्हे अपनी मकसत तक पहुँचने से नहीं रोक सकता। तुम वह कामयाब आदमी बन सकते हो जो तुम चाहते हो। सोचो एक निपुण दिन है। उस दिन जब तुम जागो और तुम्हे पता है की यह वैसा दिन होगा जब सब कुछ ठीक होगा। सब अपनी जगह होगी। तुम्हारे भावनाएं अच्छे हैं। तुम शान्ति एहसास करते हो। तुम संतुष्टि एहसास करते हो। तुम ने जो रेखाएं बनाई हैं उस में तुम आराम और सुरक्षित हो। अब तुम चुनते हो उन रेखाओं को बढ़ाना। सोचो की तुम उन रेखाओं को हटा रहे हो जो तुमने बनाए हैं और तुम अपना क्षितिज बढ़ा रहे हो, अपने मकसत बढ़ा रहे हो, और भी आगे बढ़ते हुए, अपने नए मक्सतों के साथ खुश हो। अपने नए क्षितिज के साथ तुम खुश हो। तुम्हे सुरक्षित और खुश लगता है की तुम में वह शक्ति और ताकत है बदलाव लाने ले लिए। अपनी सीमाओं को बदलाने के लिए और वह कामयाब आदमी बनने के लिए जो तुम चाहते हो। तुम्हारी भावनाएं अच्छी हैं। तुम शांत हो। तुम संतुष्ट हो। अब यह सोचो – इस ख़ास दिन को अपने भविष्य में देखो – एक दिन या दो, एक हफ्ता, एक महीना। सोचो की तुमने कई सुल्झनों का हल किया है, कई संघर्ष और वह अब तुम्हारे पीछे हैं। सोचो की तुम्हारे चेहरे पर मुस्कान है। तुम शांत हो, संतुष्ट हो, और तुम ने कई सुल्झनों का हल किया है, उनका जवाब मिला है। अब तुम्हे उन पिछले सुल्झनों से आज़ादी मिल गई है। तुम में आत्मविशवास है। तुम केंद्रित हो, बलवान हो। अब किसी मकसत या मंजिल के बारे में सोचो जो तुम पूरा करना चाहते हो। अपने आप को छोटी मक्सतों से अलग करते हुए बड़े मकसत पर ध्यान देते हुए देखो। अपने आप को ऊर्जा के साथ अपना काम करते हुए देखो। उसे ख़तम करते हुए देखो। तुम्हे नए अवसर दिखाई देंगे। तुम्हे नई चुनौतियाँ दिखाई देंगे जो पुरानेवालों से और भी रोमांचक होंगे। तुम अपने आप को नई ऊर्जा के साथ देखते हो। तुम उत्साहित हो, ध्यान देते हो, और पुराने विचारों से नए वाले उठते हैं। नई ऊर्जा और साकारात्मक भावनाएं उठते हैं। तुम कायाब हो। तुम ने अपना मकसत पहुँचा है। सोचो की तुम उस सारी चीज़ों के हकदार हो जो ज़िन्दगी तुम्हे देती है। तुम्हारी मकसत तक पहुंचना तुम्हारे लिए बहुत लाभदायक है और जैसे तुम ज़िन्दगी में और भी मक्सतों तक पहुंचोगे, उन्हें तुम साकारात्मक दृष्टि से देखोगे, अपने लिए, अपने परिवारवालों के लिए, अपने दोस्तों के लिए और अपने साथ काम करनेवालों के लिए। सोचो की तुम अपनी मकसत तक पहुँचने में ऊर्जा लगा रहे हो और बन रहे हो वह कामयाब आदमी जो तुम्हारा हक़ है। सोचो उन सारी साकारात्मक मक्सतों के बारे में जो तुमने पहले से पहुंचे हैं। यह तुम्हारे लिए और आस-पास रहनेवालों के लिए अच्छा है। अब सोचो की तुम कामयाब बन रहे हो। तुम खुश हो। तुम दूसरों के बारे में सोचते हो। तुम दूसरों की मदद करते हो और तुम्हारी कामयाबी सभी के लिए अच्छी है। तुम अपनी कामयाबी के साथ खुश हो। तुम अपनी कामयाबी अच्छे और हकदार काम के लिए इस्तमाल करते हो। कामयाबी तुम्हारा हक़ है। उसे देखो, एहसास करो, तुम कामयाब हो। तुम्हारा दिमाग साफ़ है। तुम अपने आप को एक बुद्धिमान, रोमांचक और सुंदर व्यक्ति के रूप में देखते हो जो तुम हो। तुम्हारे कई विकल्प हैं, मर्जियां हैं और तुम जो भी करोगे, जो भी रास्ता चुनोगे, यह जान लो की वह तुम्हारे लिए अच्छा ही होगा। तुम्हारी कामयाबी एक अच्छी घटना है तुम्हारे लिए और जो तुम्हारे ज़िन्दगी का हिस्सा हैं। तुम्हारा हर विकल्प और जो भी रास्ता तुम चुनते हो अभी के लिए बिल्कुल सही है। अब अपने आप को भविष्य में देखो कई अच्छे रास्तों और विकल्पों के साथ और इस चित्र को वर्तमान में लाओ। अपने आप को सुल्झनों का हल करते हुए देखो। अपने आप को आत्मविशवास के साथ कामयाब देखो कई साकारात्मक रास्तों के साथ चुनने के लिए और तुम्हे पता है तुम अपनी कामयाबी जारी रख सकते हो। तुम उन चीज़ों को चुन सकते हो जो तुम्हारी ज़िन्दगी को और भी बहतर बना सके।

Love magnet – प्यार का लोहकांत

और जैसे तुम पूरी शान्ति से बहते हो, अपने आप को और विश्वासी बनते हुए देखो और महसूस करो, आकर्षक और मनोहर बनने और एहसास करने की चुनो। तुम देखोगे की तुम हर किसीसे आसानी और बिन हिचकिचाए बात कर सकते हो। क्योंकि तुम अब सुरक्षित हो, तुम में आत्मविशवास है और तुम आकर्षक हो। अब सोचो उस जीवन साथी के बारे में जो तुम्हारे लिए बिल्कुल सही है और मैं चाहती हूँ तुम उन गुणों के बारे में सोचो जो तुम्हे अपने जीवन साथी में चाहिए। थोड़ा सोचो उनके बाल कैसे होंगे। अच्छा अभी सोचो तुम अपने जीवन साथी के आंखों में झाँक रहे हो, उनके आँख कैसे होंगे? अच्छा अभी सोचो तुम अपने जीवन साथी के बदन को देख रहे हो, उनका बदन कैसा होगा? अच्छा अभी सोचो तुम्हारे जीवन साथी के हंसी के बारे में। सोचो उनकी हंसी कैसी होगी? अच्छा अभी सोचो तुम्हारे जीवन साथी के आवाज़ के बारे में, उनकी आवाज़ सुनो। उनकी आवाज़ कैसी होगी? अच्छा अभी मैं चाहती हूँ तुम सोचो अपने जीवन साथी के दर्शन के बारे में, वह ज़िन्दगी के बारे में क्या सोचते हैं? सोचो तुम उस पे विचार कर रहे हो। अच्छा अब मैं चाहती हूँ तुम सोचो अपने जीवन साथी के पसंद या नापसंद के बारे में, उनके शौक क्या होंगे? उनको किन चीज़ों में दिलचस्पी होगी? उनको क्या करना अच्छा लगेगा? उनको कहाँ जाना अच्छा लगेगा? अब तुम्हारे जीवन साथी के पसंद या नापसंद के बारे में सोचो। अच्छा अब मैं चाहती हूँ की तुम अपने जीवन साथी को देखो, भीतर और बाहर से, पूरी तरह से। सोचो की तुम उनको देख रहे हो। अच्छा अब एहसास करो की कितना अच्छा लगता है तुम्हारे जीवन साथी के साथ होना। उनके साथ कुछ पल गुजारना। उनके साथ होना। और तुमको एहसास होगा की तुम उनको तुम्हारी ज़िन्दगी में स्वीकार करोगे। तुम प्यार के हकदार हो। तुम खुशी के हकदार हो। तुम्हे प्यार देने और मिलने का हक़ है। और तुम समझते हो की तुम ज़िन्दगी में जीवन साथी को स्वीकार करने के लिए तैयार हो। अब तुम्हे एहसास होगा की तुम्हारे जीवन साथी को तुम्हारी ओर आकर्षित करने के लिए तुम में कुछ ख़ास गुण होने चाहिए जो तुम्हारे जीवन साथी पहचाने और उन्हें लुभाएँ। तुम्हे एहसास है यह ज़रूरी है की तुम अपने अन्दर से अपने अच्छे से अच्छे गुण दिखाओ। जो गुण मैं अभी बोलनेवाली हूँ वह तुम में पहले से ही हैं। तुम्हे अब यह एहसास है की उन गुणों को दिखाना कितना ज़रूरी है और उन्हें पूरी तरह से विकसित करना ताकि तुम अपने साथी को पूरी तरह से आकर्षित कर सको। तो जैसे मैं हर गुण का नाम लूँ मैं चाहती हूँ की तुम थोड़ा सोचो की तुम अपने आप में उस गुण को कैसे विकसित कर सकते हो ताकि तुम अपने आप को और भी आकर्षित बना सको। यह तुम्हारी मदद करेगा तुम्हारे जीवन साथी को लुभाने में और तुम्हारे बारे में अच्छा लगने में ताकि तुम खुशी से जी सको। अच्छा अब एक गुण जो तुम अपने आप में दिखा सकते हो और ज्यादा विकसित कर सकते हो वह है दूसरों का ध्यान रखना। सोचो तुम किस तरीके से दूसरों का ध्यान रख सकते हो। अच्छा और एक गुण जो तुम विकसित करना चाहोगे वह है हास्य का भाव। बेशख तुम्हारी अपनी हास्य की भाव होगी। कुछ चीज़ें जो तुमको मजाकी लगते हैं। मजाकिया होना, आसानी से हंसना और अच्छे पल बिताना, यह सारे आकर्षक गुण हैं। तो अब सोचो की तुम अपने हास्य के भाव को पूरी तरह से कैसे विकसित कर सकते हो। अच्छा और एक गुण जो तुम विकसित करना चाहोगे वह है तुम्हारा ज्ञान। लोग उनके ओर आकर्षित होते हैं जो ज्ञानी होते हैं। बेशख तुम्हारे कई शौक हैं। आनेवाले पल में मैं चाहती हूँ की तुम सोचो तुम्हारे सारे पसंद या नापसंद के बारे में और सोचो की तुम उस हर पसंद या नापसंद को कैसे विकसित कर सकते हो। उनके बारे में पढने से या एहसास करने से या उनके बारे में किसी और से बात करने से। अच्छा एक और गुण जो दूसरों को तुम्हारे ओर आकर्षित करता है वह है अच्छी तरह से बात करना। इसका मतलब है साफ़ बात करना, कई चीज़ों के बारे में बात करना और उस आवाज़ में बात करना जो दूसरों को सुनने में आसानी हो। तो अगले कुछ पल के लिए सोचो की तुम किस तरह से अच्छे तरीके से बात कर सकते हो।

Amnesia – भूल

जैसे तुम आराम करते रहते हो, तुम्हारी हर साँस तुम्हे शान्ति देती है, और मैं चाहती हूँ तुम अपने साँसों पर ध्यान दो। और मैं सोचती हूँ तुमने कितना ध्यान दिया है तुम्हारे दिमाग के अलग विचारों को। और तुम जान जाओगे की कितना मुश्किल है यह याद करना की दस मिनट पहले मैं क्या कह रही थी। और तुम कोशिश कर सकते हो यह याद करने की मैं पाँच मिनट पहले क्या कह रही थी या तुम क्या सोच रहे थे चौदह मिनट पहले। पर क्या तुम्हे नहीं लगता यह सब याद करना बहुत सारा काम है? देखो तो, यह चाहत से ज्यादा कोशिश का काम है तो मैं चाहती हूँ की अब तुम आराम करो, और समझो की यह याद करना ज़रूरी नहीं है की मैंने क्या कहा जब इसमे बहुत काम है। तुम चुन सकते हो याद करना भूल जाना की मैंने क्या कहा या याद करके भूलना जो मैंने कहा। यह तुम्हारी पसंद है।

Trance termination – अवचेतन की समाप्ति

और अब अपने आप को एक शान्ति की नींद में बह जाने दो। जब तुम सुबह को उठोगे, तुम्हारी अच्छी तरह से आराम हुई होगी और प्राकृतिक ऊर्जा से तुम उभरते होगे। तुम एक अच्छे दिन के लिए तैयार होगे।

What the experts are saying:

“If you want to make a positive change in your life, Steve G. Jones can make the difference. He did with me.”

Tom Mankiewicz
Writer of "Superman the Movie"

“What I really love about this book is that Frank and Steve break down the different areas of life into easy to-follow sections that you can just choose, learn, and apply.”

John Assaraf
New York Times bestselling author and star of "The Secret"

“Hypnosis is an ancestral art, which accesses and uncovers the subconscious mind, in order to understand its process and principles takes time, consistency, and patience. When you have a mentor that understands and lives those requirements, you're guaranteed success. Dr. Steve G. Jones opened up new opportunities, not only for me, but he also patiently opens doors for everybody.”

Al Kelbren
Olympic Coach (Women's Gymnastics)

“Being someone who is extremely familiar with the power of hypnosis, I can say without a shadow of a doubt that Clinical Hypnotherapist Steve G. Jones is among the best in the world.”

Dr. Joe Vitale
Star of "The Secret"

“WOW! No wonder Steve is the leader in hypnotherapy. How lucky are those who have had the benefit of his genius!

Jeraldine Saunders
Creator the "Love Boat" TV series

“Steve G. Jones exhibited great insight and sensitivity during our time together. I would recommend his services to anyone seeking aid with the elimination of unwanted habits.”

Bernard Fitch
Metropolitan Opera Tenor

“Working with Steve was a fabulous experience. He helped me overcome my fears and move on more successfully in life and in my career. Steve G. Jones is certainly the most brilliant mind in hypnotherapy!”

Andrea George
Miss California 1999

“My hypnosis session with Steve G. Jones was the most relaxing experience I have ever had in my life. Steve was so understanding of my past problems and woke me to a new realization of my goals and the road to a new beginning. This has changed my future in baseball. I now step on the field more confidently and poised with an excellent outlook on the way I pitch.”

Beau Upchurch
Pitcher, Dodgers Baseball Team

“I have been listening to your recordings and I have to say that you are amazing. You are an incredibly generous, insightful human being. I am full of admiration for you.”

Bob McAndrew
Acting Teacher to Christopher Walken, Tom Selleck, Sela Ward, Chris Cooper and thousands more...